IBPS RRB PO/Clerk | हिंदी भाषा प्रश्नावली 4 सितम्बर 2019

IBPS RRB PO/Clerk | हिंदी भाषा प्रश्नावली 4 सितम्बर 2019




आप सभी जानते हैं कि आईबीपीएस आरआरबी  परीक्षा 2019 की मेंस परीक्षा की तैयारी कर रहे होंगे. परीक्षा के पाठ्यक्रम के आधार पर आपकी सफलता सुनिश्चित करने के लिए ADDA247 आपके लिए हिंदी की प्रश्नोतरी लेकर आया है. यह प्रश्नावली मुख्य परीक्षा की तैयारी को और मजबूत करने के लिए अब से दैनिक स्तर पर आयोजित की जा रही है. सभी जानते हैं कि बैंकिंग परिक्षाओं में केवल आरआरबी ही एकमात्र ऐसी परीक्षा है, जो आपको अपनी भाषा का चयन का विकल्प देता है जिसमें आप अंग्रेजी के स्थान  पर हिंदी भाषा चुन सकते हैं. यह हिंदी भाषा क्षेत्र के उम्मीदवारों के लिए सफलता पाने का एक सुनहरा मौक़ा है, क्योंकि हम अपनी भाषा में अधिक से अधिक अंक स्कोर करने में सक्षम होते हैं. यदि आपका लक्ष्य इस वर्ष आईबीपीएस आरआरबी में सफलता पाना है, तो अभी से मेंस की तैयारी में जुट जाएँ. अपनी तैयारी को और बेहतर बनाते हुए अपनी सफलता सुनिश्चित कीजिये. आज की इस हिंदी भाषा प्रश्नावली 04 सितम्बर 2019 में हम आपको    प्रश्नों को उपलब्ध करा रहे हैं.   


Directions (1-15): निम्नलिखित प्रश्नों में दिए गए अनुच्छेदों के पहले और अन्तिम वाक्यों को क्रमशः (1) और (6) की संज्ञा दी गई है। इनके मध्यवर्ती वाक्यों को चार भागों में बाँटकर य, र, ल, व की संज्ञा दी गई है। ये चारों वाक्य व्यवस्थित क्रम में नहीं है। इन्हें ध्यान से पढ़कर दिए गए विकल्पों में से उचित क्रम चुनिए, जिससे सही अनुच्छेद का निर्माण हो।         

Q1. (1) वर्ष 2014 में स्त्री-सिनेमा के                        
(य) इस वर्ष लगभग एक दर्जन   
(र) ऐसी फिल्मों का निर्माण हुआ    
(ल) विकास को विशेष रूप से इसलिए   
(व) रेखांकित करने का मन होता है क्योंकि  
(6) जिसने स्त्री छवि को पूरी तरह बदल दिया।      
(a) य ल व र         (b)  ल र व य                 (c)  ल व य र       
(d)  य र ल व         (e) इनमें से कोई नहीं         
L1Difficulty3 
QTag अव्यवस्थित वाक्य खंडों को सुव्यवस्थित करना   

Q2.  (1) उत्तर प्रदेश में दलित चेतना के उभार को  
(य) समझने की दृष्टि से यह बेजोड़ उपन्यास है, जिस 
(र) ढंग से यह अपने समय की 
(ल) सामाजिक-राजनीतिक प्रक्रिया को पकड़ता है 
(व) उससे यह साहित्य की देहरी लाँघ कर सामाजिक विज्ञान
(6) के चौखटे तक जा पहुँचता है।  
(a) य र ल व              (b)  य व र ल                 (c)   ल र य व      
(d)      य ल व र            (e) इनमें से कोई नहीं  
L1Difficulty3 
QTag अव्यवस्थित वाक्य खंडों को सुव्यवस्थित करना   
  

Q3.  (1) वस्तुतः गाँव एक संरचना है,       
(य) कई आयाम हैं इन आयामों 
(र) जिसके सामाजिक-आर्थिक-राजनीतिक-सांस्कृतिक 
(ल) उसमें जीवंतता आती है, बल्कि 
(व) के समुच्च्य से न सिर्फ 
(6) उसका स्वरुप भी निर्मित होता है। 
(a) व ल र य              (b) र ल व य                 (c) र व ल य        
(d)  र य व ल              (e) इनमें से कोई नहीं 
L1Difficulty4 
QTag अव्यवस्थित वाक्य खंडों को सुव्यवस्थित करना                 

Q4. (1) हिंदी आलोचना में परंपराओं            
(य) के निर्माण की परंपरा रही है और   
(र) परंपराओं के निर्माण के 
(ल) मूल में विचारधारात्मक  
(व) आग्रहों की 
(6) प्रभावशाली भूमिका रही है।       
 (a) व र य ल              (b)  य र ल व                 (c) र ल व य        
(d)  य ल व र               (e) इनमें से कोई नहीं                          
L1Difficulty3  
QTag अव्यवस्थित वाक्य खंडों को सुव्यवस्थित करना   

Q5.  (1)  हिंदी साहित्य में आधुनिकता के               
(य) कि आधुनिकता के लिए भौतिक आधारों 
(र) पर विचार करने के क्रम में यह बात सामने आई 
(ल) की उपस्थिति के साथ-साथ 
(व) उदय के कारणों और परिस्थितियों 
(6) सामाजिक आधार का भी होना जरूरी है। 
(a)  व र य ल              (b)   व ल र य                (c) व य र ल        
(d)   य र व ल             (e) इनमें से कोई नहीं        
L1Difficulty3 
QTag अव्यवस्थित वाक्य खंडों को सुव्यवस्थित करना   

Q6.  (1)  पश्चिमी यूरोप में राष्ट्र राज्यों   
(य) साथ ही राजतंत्र के हाथों में   
(र) के उदय के साथ मध्य काल का
(ल) शक्ति का केंद्रीकरण भी 
(व) अवसान देखा जाता है,  
(6) देखने को मिलता है। 
(a) व य र ल              (b) र व य ल                (c) र ल व य        
(d)  ल र य व             (e) इनमें से कोई नहीं          
L1Difficulty3    
QTag अव्यवस्थित वाक्य खंडों को सुव्यवस्थित करना               

Q7.  (1) जब अमरीका का    
(य) करने के लिए फ्रांस ने 
(र) के दुश्मन की मदद
(ल) विरुद्ध शुरू हुआ तो दुश्मन 
(व) स्वतंत्रता संग्राम अंग्रेजों के  
(6) अमरीका की भरपूर मदद की।    
(a) ल व य र              (b)  ल य व र                 (c)   र व य ल      
(d) व ल र य               (e) इनमें से कोई नहीं        
L1Difficulty3 
QTag अव्यवस्थित वाक्य खंडों को सुव्यवस्थित करना   

Q8. (1) बीसवीं शताब्दी के पहले दशक के 
(य) बाद मध्यवर्ग की अवधारणा को 
(र) अन्य शाखाओं में      
(ल) लेकर समाजशास्त्र और समाजविज्ञान की  
(व) कई अध्ययन और    
(6) शोध सामने आने शुरू हुए।        
(a) र व य ल              (b) ल व य र   (c) ल य र व        
(d) य ल र व                   (e) इनमें से कोई नहीं        
L1Difficulty3 
QTag अव्यवस्थित वाक्य खंडों को सुव्यवस्थित करना           


Q9. (1) कई बार मैं सोचती हूँ   
(य) का लेखक न होकर हिंदी 
(र) कि यदि शेक्सपीयर इंग्लिश 
(ल) का लेखक होता तो क्या
(व) तब भी उसकी इतनी 
(6) ख्याति होती? 
(a) व ल र य              (b)  र य ल व                 (c)  व र ल य       
(d)  र ल व य              (e) इनमें से कोई नहीं          
L1Difficulty3 
QTag अव्यवस्थित वाक्य खंडों को सुव्यवस्थित करना               
  

Q10.  (1)  दादा साहब फाल्के भी इस विधा          
(य) सशक्त माध्यम का उपयोग 
(र) को पैसा कमाऊ मनोरंजन का   
(ल) मगर उन्हें लगा कि इस 
(व) माध्यम बना सकते थे, 
(6) चरित्र निर्माण में ही किया जाना चाहिए।      
(a) व ल य र              (b)  र य व ल                 (c) र व ल य         
(d)  ल र य व                (e) इनमें से कोई नहीं      
L1Difficulty3 
QTag अव्यवस्थित वाक्य खंडों को सुव्यवस्थित करना   


Q11.  (1)  अपने आरंभिक अर्थों में        
(य) आगे की औद्योगिक क्रांति ने 
(र) उसका वही अर्थ नहीं रह गया था और
(ल) की क्रांति के समय   
(व) मध्यवर्ग जिसका बोध कराता था फ्रांस     
(6) तो पूरी तस्वीर ही बदल डाली।   
(a) व ल र य              (b)  य ल व र                 (c)  ल र व य       
(d) र व य ल              (e) इनमें से कोई नहीं          
L1Difficulty3 
QTag अव्यवस्थित वाक्य खंडों को सुव्यवस्थित करना                 


Q12. (1) वे दोनों अखाड़े में एक-दूसरे 
(य) लेकिन अखाड़े के बाहर उनका   
(र) था कि बस राम-लक्ष्मण का   
(ल) आपसी व्यवहार इतना प्रेम-भरा   
(व) के दुश्मन बनकर उतरते थे,   
(6) ही दृष्टान्त दिया जा सकता था।        
(a) ल व र य                (b)  व य ल र                 (c) ल य व र     
(d) य व र ल                (e) इनमें से कोई नहीं        
L1Difficulty3 
QTag अव्यवस्थित वाक्य खंडों को सुव्यवस्थित करना   
   

Q13.  (1) चरित्र मानव-जीवन की       
(य) चरित्र सामाजिक अनुशासन 
(र) इसके द्वारा ही मनुष्य 
(ल) अमूल्य निधि है क्योंकि 
(व) और पशु में अंतर होता है,
(6) बनाए रखने के लिए आवश्यक है।    
(a) ल र व य              (b)   य व ल र                (c)     य ल व र    
(d)  व य ल र              (e) इनमें से कोई नहीं            
L1Difficulty3
QTag अव्यवस्थित वाक्य खंडों को सुव्यवस्थित करना           


Q14. (1)  जीवन के सर्वागीण विकास को          
(य) के क्रमिक सौपनों पर विचार किया जाए,   
(र) ध्यान में रखते हुए यदि शिक्षा 
(ल) तो भारतीय विद्यार्थी को सर्वप्रथम इस 
(व) प्रकार की शिक्षा दी जानी चाहिए,
(6) जो आवश्यक हो, दूसरी जो उपयोगी हो।   
(a) ल व य र              (b)  व ल य र                 (c) र य ल व         
(d)  व र य ल              (e) इनमें से कोई नहीं           
L1Difficulty4
QTag अव्यवस्थित वाक्य खंडों को सुव्यवस्थित करना                 

Q15.  (1) अपनी संस्कृति को छोड़,        
(य) गौरव को जो ठेस पहुँच रही है, 
(र) वह किसी राष्ट्रप्रेमी जागरूक
(ल) अनुकरण से हमारे राष्ट्रीय 
(व) विदेशी संस्कृति के विवेकहीन 
(6) व्यक्ति से छिपी नहीं है।               
(a)  य र ल व           (b) व य ल र                  (c)  व ल य र        
(d)      ल व र य              (e) इनमें से कोई नहीं       
L1Difficulty2 
QTag अव्यवस्थित वाक्य खंडों को सुव्यवस्थित करना             
  



उत्तर-  
S1. Ans. (c)   
Sol. वर्ष 2014 में स्त्री-सिनेमा के विकास को विशेष रूप से इसलिए रेखांकित करने का मन होता है क्योंकि इस वर्ष लगभग एक दर्जन ऐसी फिल्मों का निर्माण हुआ जिसने स्त्री छवि को पूरी तरह बदल दिया।      

S2. Ans. (a)  
Sol. उत्तर प्रदेश में दलित चेतना के उभार को समझने की दृष्टि से यह बेजोड़ उपन्यास है, जिस ढंग से यह अपने समय की सामाजिक-राजनीतिक प्रक्रिया को पकड़ता है उससे यह साहित्य की देहरी लाँघ कर सामाजिक विज्ञान के चौखटे तक जा पहुँचता है। 
  
S3. Ans. (d)    
Sol.   वस्तुतः गाँव एक संरचना है, जिसके सामाजिक-आर्थिक-राजनीतिक-सांस्कृतिक कई आयाम हैं इन आयामों के समुच्च्य से न सिर्फ उसमें जीवंतता आती है, बल्कि उसका स्वरुप भी निर्मित होता है। 

S4. Ans. (b)   
Sol.   हिंदी आलोचना में परंपराओं के निर्माण की परंपरा रही है और परंपराओं के निर्माण के मूल में विचारधारात्मक आग्रहों की प्रभावशाली भूमिका रही है।          

S5. Ans. (a)  
Sol.   हिंदी साहित्य में आधुनिकता के उदय के कारणों और परिस्थितियों पर विचार करने के क्रम में यह बात सामने आई कि आधुनिकता के लिए भौतिक आधारों की उपस्थिति के साथ-साथ सामाजिक आधार का भी होना जरूरी है।   


S6. Ans. (b)  
Sol.  पश्चिमी यूरोप में राष्ट्र राज्यों के उदय के साथ मध्य काल का अवसान देखा जाता है, साथ ही राजतंत्र के हाथों में शक्ति का केंद्रीकरण भी देखने को मिलता है।   

S7. Ans. (d)     
Sol.  जब अमरीका का स्वतंत्रता संग्राम अंग्रेजों के विरुद्ध शुरू हुआ तो दुश्मन के दुश्मन की मदद करने के लिए फ्रांस ने अमरीका की भरपूर मदद की।  

S8. Ans. (d)  
Sol.   बीसवीं शताब्दी के पहले दशक के बाद मध्यवर्ग की अवधारणा को लेकर समाजशास्त्र और समाजविज्ञान की अन्य शाखाओं में कई अध्ययन और शोध सामने आने शुरू हुए। 

S9. Ans. (b)  
Sol.  कई बार मैं सोचती हूँ कि यदि शेक्सपीयर इंग्लिश का लेखक न होकर हिंदी का लेखक होता तो क्या तब भी उसकी इतनी ख्याति होती?  
  
S10. Ans. (c)   
Sol.   दादा साहब फाल्के भी इस विधा को पैसा कमाऊ मनोरंजन का माध्यम बना सकते थे, मगर उन्हें लगा कि इस सशक्त माध्यम का उपयोग चरित्र निर्माण में ही किया जाना चाहिए।      

S11. Ans. (a)  
Sol.   अपने आरंभिक अर्थों में मध्यवर्ग जिसका बोध कराता था फ्रांस की क्रांति के समय उसका वही अर्थ नहीं रह गया था और आगे की औद्योगिक क्रांति ने तो पूरी तस्वीर ही बदल डाली।    

S12. Ans. (b)  
Sol. वे दोनों अखाड़े में एक-दूसरे के दुश्मन बनकर उतरते थे, लेकिन अखाड़े के बाहर उनका आपसी व्यवहार इतना प्रेम-भरा था कि बस राम-लक्ष्मण का ही दृष्टान्त दिया जा सकता था। 
   
S13. Ans. (a)   
Sol.   चरित्र मानव-जीवन की अमूल्य निधि है क्योंकि इसके द्वारा ही मनुष्य और पशु में अंतर होता है, चरित्र सामाजिक अनुशासन बनाए रखने के लिए आवश्यक है।    

S14. Ans. (c)  
Sol.   जीवन के सर्वागीण विकास को ध्यान में रखते हुए यदि शिक्षा के क्रमिक सौपनों पर विचार किया जाए, तो भारतीय विद्यार्थी को सर्वप्रथम इस प्रकार की शिक्षा दी जानी चाहिए, जो आवश्यक हो, दूसरी जो उपयोगी हो।    

S15. Ans. (c)  
Sol.  अपनी संस्कृति को छोड़, विदेशी संस्कृति के विवेकहीन अनुकरण से हमारे राष्ट्रीय गौरव को जो ठेस पहुँच रही है, वह किसी राष्ट्रप्रेमी जागरूक व्यक्ति से छिपी नहीं है।                  
  






   





आप इन्हें भी देखें -