आईबीपीएस आरआरबी परीक्षा 2019 : हिंदी भाषा के स्टडी नोट्स | भाग- 3

आईबीपीएस आरआरबी परीक्षा 2019 : हिंदी भाषा के स्टडी नोट्स | भाग- 3

प्रिय पाठकों,  

आप सभी जानते हैं कि आईबीपीएस आरआरबी  परीक्षा 2019 की अधिसूचना जारी की जा चुकी है. परीक्षा के पाठ्यक्रम के आधार पर आपकी सफलता सुनिश्चित करने के लिए ADDA247 आपके लिए हिंदी भाषा के स्टडी नोट्स लेकर आया है. ये नोट्स मुख्य परीक्षा आने तक आपको पहले से ही तैयार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायेंगे. अपने साथियों के लिए हम हिंदी प्रश्नोत्तरी का आयोजन पहले से कर ही रहे हैं. सभी जानते हैं कि बैंकिंग परिक्षाओं में केवल आरआरबी ही एकमात्र ऐसी परीक्षा है , जो आपको अपनी भाषा का चयन का विकल्प देता है जिसमें आप अंग्रेजी के स्थान  पर हिंदी भाषा चुन सकते हैं. यह हिंदी भाषा क्षेत्र के उम्मीदवारों के लिए सफलता पाने का एक सुनहरा मौक़ा है, क्योंकि हम अपनी भाषा में अधिक से अधिक अंक स्कोर करने में सक्षम होते हैं. यदि आपका लक्ष्य इस वर्ष आईबीपीएस आरआरबी में सफलता पाना है, तो अभी से मेंस की तैयारी में जुट जाएँ. अपनी तैयारी को और बेहतर बनाते हुए अपनी सफलता सुनिश्चित कीजिये...


किसी भी प्रतियोगी परीक्षा में हिंदी भाषा खंड में ‘गद्यांश में रिक्त स्थानों की पूर्ति’ से संबंधित प्रश्न अवश्य पूछे जाते हैं। विशेषकर आईबीपीएस आरआरबी की पीओ और क्लर्क परीक्षा में इन प्रश्नों की अधिकता होती है इसलिए इन प्रश्नों से संबंधित प्रश्नों का अध्ययन एवं अभ्यास करना आवश्यक हो जाता है लेकिन अक्सर देखा गया है कि विद्यार्थी इन प्रश्नों का अभ्यास करने से बचते हैं। उन्हें लगता है कि ये प्रश्न तो बहुत सरल होते हैं और इस कारण परीक्षा में अत्यधिक आत्मविश्वास में आकर गलत उत्तर का चयन करते हैं।      
इस लेख में हम आपको ‘गद्यांश में रिक्त स्थानों की पूर्ति’ से संबंधित सामाग्री से अवगत करवाएगें जिससे आप निश्चित रूप से इस प्रकार के प्रश्नों को हल कर सकते हैं आपको केवल ध्यानपूर्वक इन बिन्दुओं का अध्ययन करके अभ्यास करना है। इस लेख के अंत में आपको इन प्रश्नों से संबंधित 5 प्रश्न भी दिए गए हैं ताकि आप इन प्रश्नों का अभ्यास कर परीक्षा में इस भाग से अधिकतम अंक प्राप्त कर सके।


  • गद्यांश में रिक्त स्थानों की पूर्ति- गद्यांश में रिक्त स्थानों की पूर्ति के लिए शब्दों की सही पहचान आवश्यक है। शब्दों की सही पहचान करने से तात्पर्य है कि शब्दों के शाब्दिक और लाक्षणिक रूप के बारे में जानकारी हो। एकार्थी, अनेकार्थी, विलोम श्रुतिसम भिन्नार्थक शब्दों का ज्ञान हो। 
  • शब्दों से भली-भांति परिचित होने पर वाक्य में आए रिक्त स्थान को भरना सरल हो जाता है। हिंदी साहित्य की विभिन्न विधाओं यथा: कहानी, उपन्यास को पढ़ने से शब्दभंडार विकसित होने में सहायता मिलती है इसीलिए इन विधाओं का अध्ययन करना चाहिए। 
  • इसके अतिरिक्त हिंदी भाषा के व्याकरण के नियमों की जानकारी होना आवश्यक है क्योंकि ये नियम हिंदी भाषा को शुद्ध रूप से समझने में सहायक है। वाक्य की सरंचना पर ध्यान देने से भी रिक्त स्थानों की पूर्ति करना सरल हो जाता है।


     ‘गद्यांश में रिक्त स्थानों की पूर्ति’ 

उपर्युक्त सामग्री को ध्यानपूर्वक पढ़ने के बाद ‘गद्यांश में रिक्त स्थानों की पूर्ति’ से संबंधित प्रश्नों का उत्तर देने में आसानी होगी, इन्हें पढ़ने से विद्यार्थी में इस प्रकार के प्रश्नों के उत्तर देने की एक समझ विकसित होगी। नीचे इस प्रकार के कुछ प्रश्न दिए हैं आप इनका अभ्यास जरुर करें क्योंकि अभ्यास से ही हर कार्य सिद्ध होता है।

नीचे दिए गए परिच्छेद में कुछ रिक्त स्थान छोड़ दिए गए हैं तथा उन्हें प्रश्न संख्या से दर्शाया गया है। ये संख्याएँ परिच्छेद के नीचे मुद्रित हैं, और प्रत्येक के सामने (a), (b), (c), (d) और (e) विकल्प दिए गए हैं। इन पाँचों में से कोई एक इस रिक्त स्थान को पूरे परिच्छेद के संदर्भ में उपयुक्त ढंग से पूरा कर देता है। आपको वह विकल्प ज्ञात करना है और उसका क्रमांक ही उत्तर के रूप में दर्शाना है।      

हार्दिक-मिलन भाव को ..(1)..  करने वाले त्योहारों में रक्षा-बंधन का त्योहार एक प्रमुख और आकर्षक त्योहार है। यह त्योहार प्राचीनतम त्योहारों में से एक है। रक्षा-बंधन का त्योहार पवित्रता और उल्लास का त्योहार है। रक्षा-बंधन का त्योहार हमारे देश में एक छोर से दूसरे ..(2).. तक बड़ी धमू-धाम से मनाया जाता है। यह त्योहार न केवल हिन्दुओं का ही त्योहार है, अपितु हिन्दुओं की देखा-देखी अन्य जातियों व वर्गों ने भी इस त्योहार को अपनाना शुरू कर दिया। है। ऐसा इसलिए कि यह त्योहार ..(3).. की दृष्टि से अत्यन्त पुष्ट और महान् त्योहार है। धर्म की दृष्टि से यह गुरु-शिष्य के परस्पर नियम-सिद्धांतों सहित उनके परस्पर धर्म को प्रतिपादित करने वाला है। सम्बन्ध की दृष्टि से यह त्योहार ..(4).. के परस्पर सम्बन्धों की ..(5).. को प्रकट करने वाला एक दिव्य और श्रेष्ठ त्योहार है। अतएव रक्षा-बंधन का त्योहार एक महान् उच्च और श्रेष्ठ त्योहार ठहरता है।   

प्रश्न1. 
(a) प्रकट 
(b) विस्मरण                  
(c) विगत        
(d) संकुचन
(e) इनमें से कोई नहीं

प्रश्न2
(a) ठोर
(b) चरण                
(c) छोर           
(d) पक्ष
(e) इनमें से कोई नहीं


प्रश्न3.      
(a) द्वेष
(b) कटुता                
(c) सादृश्यता              
(d) सम्बन्ध
(e) इनमें से कोई नहीं


प्रश्न4. 
(a) पिता-पुत्र
(b)  पति-पत्नी                
(c) भाई-बहन 
(d) माँ-पुत्र
(e) इनमें से कोई नहीं


 प्रश्न5. 
(a) ईर्ष्या
(b) गहराई                 
(c) आशंका              
(d) वक्रता
(e) इनमें से कोई नहीं 




उत्तर
उत्तर 1. (a) रिक्त स्थान के लिए उचित शब्द ‘प्रकट’ है।
उत्तर 2. (c) रिक्त स्थान के लिए उचित शब्द ‘छोर’ है।
उत्तर 3. (d) रिक्त स्थान के लिए उचित शब्द ‘सम्बन्ध’ है।
उत्तर 4. (c) रिक्त स्थान के लिए उचित शब्द ‘भाई-बहन’ है।
उत्तर 5. (b) रिक्त स्थान के लिए उचित शब्द ‘गहराई’ है।