SBI clerk mains 2020 : प्रिपरेशन के दौरान Common mistakes, जो स्टूडेंट्स करते हैं.

SBI clerk mains 2020 : प्रिपरेशन के दौरान Common mistakes, जो स्टूडेंट्स करते हैं.




Common Mistakes you should avoid while preparing for SBI clerk mains 2020


भारतीय स्टेट बैंक- SBI clerk 2020 नोटिफिकेशन के तहत 8 हजार से अधिक रिक्तियां जारी की गई थी. जिसके बाद प्रीलिम्स परीक्षा का आयोजन सफलता पूर्वक किया  गया था .  मेंस परीक्षा का आयोजन अप्रैल में किया जाना था पर कोरोना के चलते स्थगित कर दिया गया है.  उम्मीद है कि COVID 19 का खतरा जल्द ही कम होगा और SBI clerk mains 2020 परीक्षा  का आयोजन जल्द से जल्द किया जायेगा. उम्मीदवारों को इस समय का लाभ उठाना चाहिए और SBI CLERK MAINS की तैयारी जारी रखनी चाहिए. 


हम यह आर्टिकल आपको कुछ Common mistakes के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से साझा कर रहे हैं. कुछ गलतियाँ जो बैंकिंग के उम्मीदवार आम तौर पर करते हैं. हम यहाँ आपके साथ साझा कर रहे हैं. आप जब मेंस परीक्षा की तैयारी कर रहे होते हैं तो ऐसी गलतियाँ नहीं करनी चाहिए. क्योंकि ये गलतियाँ आपको प्रिपरेशन के मार्ग से भ्रमित कर सकती हैं.



SBI clerk mains 2020 के दौरान इन गलतियों से बचें 

SBI clerk मेंस परीक्षा में सफलता प्राप्त करना आसन नहीं है, पर एक व्यवस्थित स्ट्रेटेजी के साथ तैयारी करेंगे तो सफलता अवश्य,  इसमें कुछ सामान्य गलतियाँ जो एस्पिरेंट करते हैं, उन्हें जानना बहुत आवश्यक है. SBI क्लर्क मेंस इस भर्ती परीक्षा का फाइनल चरण है, इसमें किसी तरह का इंटरव्यू नहीं है, फाइनल मेरिट लिस्ट मेंस के अंकों के  आधार पर तैयार की जाएगी. इस लिए आपको कोई मिस्टेक नहीं करनी चाहिए.  

Specific Strategy: अधिकांश छात्र, एक से अधिक बैंकिंग परीक्षाओं की तैयारी करते हैं और जिससे वह एक विशेष लक्ष्य पर अपना ध्यान केंद्रित करने में विफल रहते हैं. यह एक बड़ा दोष है. यदि आप SBI क्लर्क 2020 की तैयारी कर रहे हैं, तो पाठ्यक्रम, पिछले वर्ष के पेपर और परीक्षा पैटर्न अवश्य देखना चाहिए और उसके अनुसार रणनीति बनानी चाहिए. इससे SBI क्लर्क मेंस परीक्षा में सफल होने की संभावना बढ़ जाएगी.


टॉपिक वाइज प्रैक्टिस : यह बैंकिंग के साथ-साथ अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए एक मिथक है जो एक उम्मीदवार को हर विषय पर कदम से कदम मिलाकर चलता है. जब तक आप शुरुआत नहीं करते हैं, अगर आपने अभी बैंकिंग परीक्षा की तैयारी की शुरुआत की तो किसी अध्याय या विषय में बहुत समय न लगा कर, सब कुछ पढ़ने का प्रयास करें. कोशिश करें कि सभी टॉपिक्स के मिक्स-बैग हल करें, ऐसा करने से आपका कोई भी महत्वपूर्ण विषय पीछे नहीं छूटेगा.

अंग्रेजी खंड से सम्बंधित मिथक: अंग्रेजी खंड कड़ी मेहनत के बजाय स्मार्ट तरीकों मांग करता है. आमतौर पर एस्पिरेंट्स अच्छे स्कोर प्राप्त करने के बदले में सभी व्याकरण के नियम को समझने की सोचते हैं, लेकिन फिर भी असफल रहते हैं. ग्रामर के लिए नियमों को पढ़ने की जगह अधिक अभ्यास करने में ध्यान देना चाहिए.  मॉक टेस्ट का प्रयास करें और concept को समझें.


Comprehension टॉपिक को छोड़ना : अगर आप इस टॉपिक को छोड़ते हैं उसे बोझ की तरह लेते हैं और उसमें इंटरेस्ट नहीं दिखाते हैं, समझदारी से काम नहीं लेते और अध्ययन करते समय बस घंटे गिनते रहते हैं तो ऐसे तैयारी करने का कोई फ़ायदा नहीं है. ऐसे में आपको तैयारी के विषय में विचार कर लेना चाहिए. यह खंड 5-10 अंक प्रदान कर सकता है और ऐसे स्कोरिंग विषय को छोड़ना आपको merit list से बाहर कर सकता है.


जनरल अवेयरनेस को महत्त्व न देना :  आपको सामान्य जागरूकता के महत्व को जानना चाहिए.  यह मेंस परीक्षा में एक महत्वपूर्ण खंड बनाता है. एक महीने में सामान्य जागरूकता को कवर करना असंभव है. अखबार या दैनिक / साप्ताहिक / मासिक पत्रिका से सामान्य जागरूकता पढ़ने से आप खुद को तैयार रख सकते हैं. 


करंट अफेयर्स वन लाइनर


असंतुलित टाइम मैनेजमेंट : समय एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, खासकर तब जब परीक्षा ऑनलाइन होती है. आपको समय प्रबंधन को ध्यान में रखते हुए अपनी तैयारी को आगे बढ़ना चाहिए. इसके बिना आप सफल नहीं हो सकते हैं. यह आपकी स्पीड और एक्यूरेसी में मदद करेगा.

सभी वर्गों पर समान ध्यान नहीं देना: यह आपके लिए सबसे बड़ी कमी हो सकती है क्योंकि इसके बिना कई बार स्टूडेंट्स बैंकों में प्रवेश करने का मौका खो देते हैं. SBI मेंस परीक्षा में सेक्शनल कट-ऑफ है, इसलिए किसी एक सेक्शन को छोड़ना भारी पड़ सकता है.




मॉक-टेस्ट: एस्पिरेंट्स सोचते हैं कि सिर्फ एक-दो मॉक टेस्ट देने से आप परीक्षा में सफलता प्राप्त कर सकते हैं. मॉक टेस्ट की मदद से वो सक्सेस होने के मार्ग में 2 कदम आगे बढ़ जाते हैं. यह एक बड़ी गलती है क्योंकि अभ्यास सफलता की कुंजी है. जितना संभव हो सके उतना मॉक टेस्ट दें, जिसकी मदद से आप अवश्य सफलता प्राप्त करेंगे.


अनावश्यक प्रयास: बैंकिंग परीक्षा के उम्मीदवारों को यह पता होना चाहिए कि बैंकिंग परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग है. इसलिए उन प्रश्नों के उत्तर न दें जिसके सम्बन्ध में आपको पूरा विश्वास नहीं है. यदि आप गलत उत्तर देतें हैं, तो प्रत्येक गलत प्रयास के लिए चौथाई अंक अर्थात .25 अंक आपके प्राप्त अंको से घटा लिए जायेंगे.