Different Types of Bank Loans : भारत में विभिन्न प्रकार के बैंक लोन

Different Types of Bank Loans : भारत में विभिन्न प्रकार के बैंक लोन



Different Types of Bank Loans in India

सामान्य जागरूकता का एक महत्वपूर्ण खंड है, बैंकिंग जागरूकता. बैंकिंग परीक्षाओं में यह देखा गया कि सामान्य जागरूकता में सबसे अधिक प्रश्न बैंकिंग क्षेत्र से सम्बंधित होते हैं. इसके साथ ही बैंकिंग परीक्षाओं के अंतिम चरण इंटरव्यू में भी बैंक से सम्बंधित विभिन्न प्रश्न पूछे जा सकते हैं.  अगर आप बैंकिंग के इच्छुक हैं तो आपको पता होना चाहिए कि बैंक के लिए लोन या ऋण एक संपत्ति की तरह है. हम इस लेख के माध्यम से बैंक लोन की विस्तृत चर्चा करेंगे. जब आप बैंक से लोन लेते हैं तो आपको बैंक में यह बताना होता है कि आप किस उद्देश्य से लोन ले रहें हैं, क्योंकि एक विशेष प्रकार का लोन, एक विशेष कार्य के लिए ही दिया जाता है. अलग तरह के लोन पर ब्याज दर अलग हो सकती है.


ऋण(Loan) क्या है?
आसान भाषा में लोन एक ऐसी राशि है जिसे एक निश्चित समय में वापस करने के भरोसे के साथ उधार लिया जाता है. बैंक एक ऋणदाता(lender) के रूप में कार्य करते हैं और उधार दी गई राशि पर एक निश्चित दर से ब्याज वसूलते हैं. लोन के मूल सिद्धांत पर ही बैंक कार्य करते हैं, इसीलिए बैंक द्वारा दिए गए ऋण को एक परिसंपत्ति माना जाता है. देश का विकास करने और कारोबार बढ़ाने के लिए  बैंकों को विभिन्न सरकारी नीतियों और RBI की नीतियों द्वारा पैसे उधार देने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है. उधार लेने वाला व्यक्ति (borrower) समझौते के अनुसार किस्तों में ब्याज के साथ राशि चुकाता है.

लोन के प्रकार:

लोन को अच्छे से समझने के बाद यह समझना आवश्यक है कि लोन कितने प्रकार के होते हैं, मुख्य रूप से लोन 2 प्रकार के होते हैं. 
  • सुरक्षित ऋण (Secured Loans)
  • असुरक्षित ऋण (Unsecured Loans)


सुरक्षित ऋण (Secured Loans):


सुरक्षित लोन वे लोन हैं, जिन्हें देने के  लिए बैंक आपसे कोई संपत्ति गिरवी रखने के लिए कहता है. अगर आप तय समय पर लोन नहीं चुकाते हैं तो ऐसी स्थिति में ये बैंक आपकी गिरवी रखी गई संपत्ति के माध्यम से वसूल सकते हैं. मान लीजिये कि आपने लोन के लिए अपना घर गिरवी रख दिया और आप समय पर लोन नहीं चुका पाए तो आपके घर को बेच कर पैसा वसूला जा सकता है. सिक्योर्ड लोन में  ब्याज दर सुरक्षित ऋण की तुलना में  कम है.



Also Check,


सिक्योर्ड लोन के प्रकार 

होम लोन ( Home loan):

होम लोन एक ऐसी परिसंपत्ति है जिसका उपयोग बैंक से लोन लेने के लिए किया जाता है और इसलिए इसे एक सिक्योर्ड लोन माना गया है. यदि कोई व्यक्ति अपना घर बनाना चाहता है या कोई घर खरीदना चाहता है, तो वह इस लोन के लिए आवेदन कर सकता है. घर खरीदने या  बनाने में बैंक ऋणदाता(lender) के रूप में कार्य करते हैं. ऋण उस घर के आधार पर दिया जाता है जिसे कोई व्यक्ति खरीदना या बनाना चाहता है.

प्रॉपर्टी लोन  

यह लोन भी सुरक्षित लोन की श्रेणी में आता है. इस लोन में उधार लेने वाला किसी प्रॉपर्टी को खरीदने के लिए लोन लेता है. इस स्थिति में लोन उस प्रोपटी के आधार पर दिया जाता है, जिसे ख़रीदा जा रहा है. अगर तय समय में लोन लेने वाला व्यक्ति लोन नहीं चुकाता तो बैंक खरीदी गई संपत्ति को जब्त कर सकता है.

गोल्ड लोन (Gold loans)

सोने के गहने या बिस्कुट प्राचीन काल से सुरक्षित ऋण के लिए सबसे अधिक लोकप्रिय रूप हैं. यहां, सोने के गहने बैंक में गिरवी रख कर आप लोन ले सकते हैं.


असुरक्षित ऋण (Unsecured Loans)

अनसिक्योर्ड लोन में बैंक के पास आपको कोई संपत्ति गिरवी नहीं रखनी पड़ती है, यह लोन कर्ज लेने वाले व्यक्ति की वित्तीय स्थिति को देख कर दिया जाता है. असुरक्षित ऋण को सिग्नेचर (Signature) लोन और पर्सनल (Personal) लोन भी कहते है. असुरक्षित लोन में आप क्रेडिट कार्ड से ऋण ले सकते है. इस प्रकार के ऋण में लगाए गए ब्याज की दर सुरक्षित ऋण की तुलना में अधिक होती है.

अनसिक्योर्ड लोन के प्रकार

पर्सनल लोन (Personal Loan)

यह अनसिक्योर्ड लोन के अंतर्गत आता है. यह सबसे लोकप्रिय और सामान्य प्रकार के अनसिक्योर्ड लोन में से एक है. इस लोन में ब्याज दर अधिक होती है. ये ऋण आमतौर पर उन लोगों को दिए जाते हैं जिनकी स्थिर आय के साथ-साथ एक अच्छा क्रेडिट स्कोर भी होता है. ऐसे कई कारण हैं. इस लोन को लोग शादी, छुट्टी, अंतर्राष्ट्रीय यात्रा, घर के नवीकरण,बच्चे की उच्च शिक्षा आदि के उद्देश्य से लेते हैं,

Short-term business loans

यह भी अनसिक्योर्ड लोन के अंतर्गत आता है और आमतौर पर व्यवसाय करने वाले लोग व्यवसाय में अपने खर्चों को पूरा करने के लिए इस ऋण को लेते हैं. यह लोन छोटे उद्योगपति, स्टार्टअप्स आदि द्वारा लिए जाते हैं. यह लोन नई मशीनरी और उपकरण खरीदने के लिए, नए स्थान को तत्काल किराया देने के लिए और अप्रत्याशित खर्चों को पूरा करने के लिए लिए जाते हैं.

 एजुकेशन लोन (Education loans)

उच्च शिक्षा के लिए स्टूडेंट्स Education loans लेते हैं . यह लोन कोर्स की basic fees के साथ-साथ अन्य खर्चों जैसे कि आवास (हॉस्टल शुल्क), परीक्षा शुल्क आदि को कवर करता है. इस लोन में स्तुदेंस्त मुख्य उधारकर्ता होते हैं, जबकि माता-पिता, भाई-बहन और पति / पत्नी  co-applicants हो सकते हैं. यह लोन विभिन्न प्रकार की शिक्षा के लिए होते है, जैसे full-time, part-time, graduation, post-graduation course और vocational course साथ ही विभिन्न क्षेत्रों जैसे  management, engineering, और medicine आदि.


Also Read,
List of Presidents List of Prime Ministers Largest State of India Governers of RBI
What is PMJDY ? List of Public Sector Banks National Security Act Chief Election Commissioner of India


वाहन लोन (Vehicle loans)

यह अनसिक्योर्ड लोन का ही एक रूप है. इस लोन को व्यक्तिगत रूप से या परिवहन से संबंधित अपना व्यवसाय शुरू करने के लिए वाहन खरीदने के लिए कोई व्यक्ति लेता है. इस ऋण को लेने के लिए आपको किसी भी तरह की संपत्ति गिरवी नहीं रखनी पड़ती है. इसलिए लोन लेने वाले व्यक्ति की  credit history अच्छी होनी बहुत आवश्यक है.

Click Here to Register for Bank Exams 2020 Preparation Material


Also Check,