10/08/2017

भारत छोड़ो आंदोलन की 75 वीं वर्षगांठ


हमारे देश के कई नागरिकों को हमारे पिछले इतिहास के बारे में जानने की परवाह भी नहीं है, लेकिन हमें यह समझना चाहिए कि किसी का इतिहास भूलना किसी की पहचान खोने के समान है. लेकिन, हम जानते हैं कि आप सभी को ज्ञात है कि 8 अगस्त भारत के इतिहास का एक महत्वपूर्ण दिन था. भारत का स्वतंत्रता संघर्ष एक लंबी लड़ाई है, जिसमें साहस की कई कहानियाँ हैं जो अपने इतिहास में गहरी दफन हो गई हैं. संघर्ष ने कई विद्रोहों, आंदोलनों को देखा है जिनका उद्देश्य भारत की आजादी थी, लेकिन कुछ ऐसे थे जो स्वतंत्रता की यात्रा में मील के पत्थर साबित हुए. गैर-सहकारिता आंदोलन, सविनय अवज्ञा आंदोलन आदि ऐसे नाम हैं, जो भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में महत्वपूर्ण गति प्रदान करने में मदद करते हैं. लेकिन अंतिम झटका भारत छोड़ो आंदोलन था जिसने भारत से ब्रिटिश की जड़ों को उखाड़ने में मदद की.

भारत छोड़ो आन्दोलन भारतीय इतिहास की एक ऐतिहासिक घटनाओं में से एक है. यह 8 अगस्त 1942 को बॉम्बे के गोवालिया टैंक मैदान (बाद में अगस्त क्रांति मैदान के रूप में जाना जाता था) में महात्मा गांधी के बंबई में आवागमन पर शुरू किया गया था. इसने एक अंतिम कार्य के रूप में कार्य किया. देश भर में बड़े पैमाने पर विरोध किया गया था. लोगों ने ब्रिटिश शासन के प्रति अपना क्रोध दर्शाने के लिए पूरे देश में गिरफ्तारी की शुरुआत की. हालांकि, इस आंदोलन के बारे में उल्लेख करने वाला प्रमुख मुद्दा इसकी अहिंसक आधार और प्रकृति है. यह विशुद्ध रूप से अहिंसा के सिद्धांत पर किया गया था. गांधीजी ने स्वयं अपने भाषण में कहा था कि देशवासियों की लड़ाई सत्ता के लिए एक अभियान नहीं है, बल्कि पूरी तरह से भारत की आजादी के लिए एक अहिंसक लड़ाई है. "आज़ादी के बाद जो भी ताकत आएँगी उसका संबंध भारत की जनता से होंगा और भारत की जनता ही ये निश्चित करेंगी की उन्ही ये देश किसे सौपना है." उन्होंने कहा"राष्ट्रपिता ने इस आंदोलन को ब्रिटिश लोगों के खिलाफ लड़ाई नहीं, बल्कि ब्रिटिश साम्राज्यवाद के खिलाफ लड़ाई कहा है.

8 अगस्त को हमने भारत छोड़ो आंदोलन की 75 वीं वर्षगांठ मनाई. यह आंदोलन केवल एक आंदोलन नहीं था बल्कि हमारी मातृभूमि की आजादी के लिए एक बड़े पैमाने पर संघर्ष था. पश्चिमी दुनिया पहले से ही फासीवादी शक्तियों के अमानवीय, बर्बर कृत्यों में विसर्जित हो गई थी और हम भारतीय अहिंसा की हमारी प्राचीन विचारधारा से अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास कर रहे थे. भारत छोड़ो आंदोलन को भारतीय स्वतंत्रता दिवस की शुरुआत के रूप में कहा जा सकता है. अब, प्रत्येक व्यक्ति के लिए स्वतंत्रता का अर्थ बदल गया है लेकिन 1940 के दशक में, इसका एकमात्र अर्थ स्वतंत्रता को जीतना था. हमारे प्रधान मंत्री ने लोगों में भारत छोड़ो आंदोलन की भावना को पुनर्जीवित करने का आग्रह किया है और उन्होंने 2022 तक सांप्रदायिकता, जातिवाद, भ्रष्टाचार, गरीबी, गंदगी और आतंकवाद से स्वतंत्रता प्राप्त करने का आग्रह किया है. इसलिए, हमें एक जिम्मेदार नागरिक के रूप में भारत को जीने योग्य बेहतर स्थान बनाने हेतु प्रयास करना चाहिए. उस समय हम अंग्रेजों को हमारे देश को छोड़ने के लिए मजबूर करते थे लेकिन अब ऐसा समय है जब हमें कुछ दोषों से छुटकारा पाना होगा जो इस देश की महान विरासत की महानता को प्रभावित करते हैं.

हमें बेहतर नागरिक बनने के लिए वचनबद्ध होना चाहिए और जिम्मेदारी के विशाल भावना के साथ हमारे देश की सेवा करना चाहिए.


यहाँ भी देखें:

   



CRACK IBPS PO 2017



11000+ (RRB, Clerk, PO) Candidates were selected in IBPS PO 2016 from Career Power Classroom Programs.


9 out of every 10 candidates selected in IBPS PO last year opted for Adda247 Online Test Series.

No comments:

Post a Comment