Tuesday, 4 July 2017

बैंक परीक्षाओं के लिए बैंकिंग जागरूकता अध्ययन नोट्स(भारतीय स्टेट बैंक/State Bank of India)

प्रिय पाठकों,
Banking-Awareness-Study-Notes-(State-Bank-of-India)-for-Bank-Exams

NABARD के साथ, IBPS PO और RRB PO परीक्षा, सभी में सामान्य जागरूकता का एक अनुभाग है जो बैंकिंग जागरूकता प्रश्नों से भरा है. यहां State Bank of India (SBI); से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण बातों पर चर्चा करेंगे यह आपको आगामी बैंकिंग परीक्षाओं के लिए अच्छी तरह से तैयार करने में मदद करेगा.


भारतीय स्टेट बैंक की स्थापना और विकास

भारतीय स्टेट बैंक की उत्पत्ति 19वीं सदी के पहले दशक में 2 जून 1806 को कलकत्ता में बैंक ऑफ कलकत्ता की स्थापना के साथ हुई थी. तीन वर्ष बाद बैंक ने अपना चार्टर प्राप्त किया और बैंक ऑफ बंगाल(2 जनवरी 1809) के रूप में पुनः डिज़ाइन किया गया.यह एक अद्वितीय संस्था है, जो बंगाल सरकार द्वारा प्रायोजित ब्रिटिश भारत का पहला संयुक्त स्टॉक बैंक था. बैंक ऑफ बंबई (15 अप्रैल 1840) और बैंक ऑफ मद्रास (1 जुलाई 1843)साथ ही बैंक ऑफ बंगाल. ये तीन बैंक 27 जनवरी 1921 को इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया के रूप में उनके एकीकरण से पहले भारत में आधुनिक बैंकिंग के शीर्ष थे.


मुख्य रूप से एंग्लो-भारतीय रचनाएं, तीन अध्यक्षपद बैंक अस्तित्व में आए या तो शाही वित्त की मजबूती के कारण या स्थानीय यूरोपीय वाणिज्य की जरूरतों के कारण और भारत की अर्थव्यवस्था का आधुनिकीकरण करने के लिए एक मनमाने तरीके से बाहर से नहीं लगाया गया था. उनका विकास, तथापि, यूरोप और इंग्लैंड में इसी तरह की घटनाओं से जुड़े विचारों का आकार, और दोनों स्थानीय कारोबारी माहौल और भारतीय अर्थव्यवस्था के संबंधों में यूरोप की अर्थव्यवस्था और वैश्विक आर्थिक ढांचे होने वाले बदलावों से प्रभावित था.

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की स्थापना

बैंक ऑफ बंगाल की स्थापना ने भारत में सीमित देयता, संयुक्त स्टॉक बैंकिंग के आगमन को चिह्नित किया. तो बैंकिंग में संबंधित नवाचार, जोकि बैंक ऑफ बंगाल को नोट जारी करने की अनुमति देने का फैसला था, जो प्रतिबंधित भौगोलिक क्षेत्र के भीतर सार्वजनिक राजस्व के भुगतान के लिए स्वीकार किया जाएगा. नोट जारी करने का यह अधिकार न केवल बैंक ऑफ बंगाल बल्कि इसके दो सहोदर, बॉम्बे और मद्रास के बैंक के लिए भी था. इसका मतलब बैंकों की पूंजी में एक वृद्धि है, एक पूंजी जिस पर मालिकों को किसी भी ब्याज का भुगतान नहीं करना पड़ता था. जमा बैंकिंग की अवधारणा भी एक नवीनता थी क्योंकि स्वदेशी बैंकरों द्वारा सुरक्षित रखने के लिए धन स्वीकार करना (और कुछ मामलों में, यहां तक कि ग्राहकों की ओर से निवेश भी) भारत के अधिकांश हिस्सों में सामान्य आदत के रूप में फैल नहीं हुआ था. लेकिन, एक लंबे समय के लिए और विशेष रूप से उस समय तक जब तीन बड़े बैंकों को नोट जारी करने का अधिकार था, बैंक नोट्स और सरकारी शेष राशि बैंकों के निवेश योग्य संसाधनों के विस्तृत में बनती हैं.

तीन बैंक शाही चार्टर द्वारा शासित थे, जो समय-समय पर संशोधित किए गए थे. एक शेयर पूंजी के लिए प्रत्येक चार्टर प्रदान किया जाता था, जिनमें से चार-पांचवां निजी तौर पर सदस्यता लेते थीं और शेष प्रांतीय सरकार के स्वामित्व थे. बोर्ड के निदेशक मंडलों, जो प्रत्येक बैंक के मामलों का प्रबंधन करता है, अधिकांश बैंक भारत में बड़े यूरोपीय प्रबंध एजेंसी के सदन का प्रतिनिधित्व स्वामित्व निदेशकों थे. शेष सरकारी नामांकित व्यक्ति थे, जो कि निरंतर सिविल सेवक थे, जिसमें से एक को बोर्ड के अध्यक्ष के रूप में चुना गया था.


समाचारों में एसबीआई 

1 अप्रैल 2017 को स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) के एसोसिएट्स के साथ भारतीय महिला बैंक (BMB) का विलय भारत के इतिहास में एक बड़ा कदम था. एसबीआई न कि केवल भारत का सबसे बड़ा सार्वजनिक ऋणदाता है बल्कि देश का सबसे विश्वसनीय और रोजगार उपलब्ध कराने के संगठन भी है. 

1 अप्रैल, 2017 भारत में रिकॉर्ड तिथि थी,स्टेट बैंक ऑफ इंडिया(एसबीआई)  का इसके पांच सहयोगी बैंक और भारतीय महिला बैंक विलय हुआ था. पांच सहयोगी बैंक स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर और जयपुर (SBBJ), स्टेट बैंक ऑफ मैसूर (SBM), स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर (SBT), स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद (SBH) और स्टेट बैंक ऑफ पटियाला (SBP) हैं. एसबीआई ने अपनी पूर्व कॉर्पोरेट वेबसाइट sbi.co.in को फिर से "bank.sbi"  के रूप में ब्रांडेड किया है. 

SBI साइबरबोर्ड का पृष्ठाधार सफेद से बदलकर "कांकी नीला" कर दिया गया है और एसबीआई को एफ्रा नामक एक नये फ़ॉन्ट में लिखा जाएगा. एसबीआई के लोगो का डिजाइन और रीब्रांडिंग, डिजाइन स्टैक नामक कंपनी द्वारा किया गया है. एसबीआई लोगो अपने संरक्षक की भूमिका का प्रतीक है जो ग्राहकों के पैसे सुरक्षित रखेगा

विलय के साथ, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने 41 ट्रिलियन रूपये की बैलेंस शीट  के साथ 'टॉप 50 ग्लोबल बैंक' की लीग में प्रवेश किया है. SBI को पहले विश्व स्तर पर 54 वें स्थान पर रखा गया था लेकिन विलय के बाद इसे विश्व स्तर पर शीर्ष 50 प्रमुख बैंकों में 44 वें स्थान पर लाया गया. आखिरी बार 1971 में इस तरह के रीब्रांडिंग का अभ्यास किया गया था, जब सरकार ने पूर्व प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी शासन के तहत बैंकों को राष्ट्रीयकृत किया था.

विलय के बाद में, एसबीआई का बाजार हिस्सा 17 फीसदी से बढ़कर करीब 22 फीसदी हो जाएगा. विलय के बाद एसबीआई की टैगलाइन समान रहेगी है:- "Banker to every Indian". 24,000 के आसपास के एक शाखा नेटवर्क और पूरे देश में लगभग 59,000 एटीएम के साथ बैंक का कुल ग्राहक आधार 37 करोड़ तक पहुंच गया है. विलय की गयी] इकाई में अब 26 लाख करोड़ रुपये से अधिक का जमा आधार है और 18.50 लाख करोड़ रुपये का एडवांसमेंट स्तर है. SBI का मुख्यालय मुंबई में है.

निदेशक बोर्ड
26 जून 2017 से प्रभावी भारतीय स्टेट बैंक के केंद्रीय बोर्ड के निदेशकों की सूची.
1. अरुंधति भट्टाचार्य (चेयरमैन)
2. बी. श्रीराम (प्रबंध निदेशक)
3. रजनीश कुमार (प्रबंध निदेशक)
4. दिनेश कुमार खरा (प्रबंध निदेशक)
5. पी.के.गुप्ता (प्रबंध निदेशक)

More Banking Notes:-





CRACK IBPS PO 2017



11000+ (RRB, Clerk, PO) Candidates were selected in IBPS PO 2016 from Career Power Classroom Programs.


9 out of every 10 candidates selected in IBPS PO last year opted for Adda247 Online Test Series.

No comments:

Post a Comment