IBPS क्लर्क मेन्स के लिए DI का अभ्यास अवश्य करें

IBPS क्लर्क मेन्स के लिए DI का अभ्यास अवश्य करें



IBPS ने IBPS क्लर्क प्रीलिम्स परीक्षा 7 और 8 दिसंबर 2019 को आयोजित की थी। जिन उम्मीदवारों ने IBPS क्लर्क प्रीलिम्स परीक्षा का प्रयास किया है, उन्होंने अपने प्रदर्शन का विश्लेषण किया होगा। आप IBPS क्लर्क प्रारंभिक परीक्षा के विश्लेषण आप यहाँ देख सकते हैं। विश्लेषण करने के पश्चात उम्मीदवार अपने प्रयास का मूल्यांकन करना चाहिए कि वह प्रीलिम्स में सफल होगा या नहीं, अगर आपने विश्लेषण किया है और आपको उम्मीद है की आप इस परीक्षा में सफलता  प्राप्त कर सकते हैं तो आपको मेंस की तैयारी अभी से शुरू कर देना चाहिए। IBPS क्लर्क मेन्स परीक्षा 19 जनवरी 2020 को आयोजित होने वाली है। IBPS क्लर्क मेन्स तैयारी लिए अब आपके पास मात्र एक महीने का समय शेष है। आपकी संख्यात्मक अभियोग्यता के DI टॉपिक की तैयारी को ध्यान में रखते हुए हम यह लेख लिख रहे हैं

IBPS क्लर्क मेन्स परीक्षा में कुल 4 भाग होते हैं: मात्रात्मक योग्यता, तर्क, अंग्रेजी और सामान्य / वित्तीय जागरूकता। उम्मीदवारों को सर्वोत्तम परिणाम के लिए IBPS क्लर्क परीक्षा पैटर्न और पाठ्यक्रम की जाँच कर लेनी चाहिए। IBPS क्लर्क मेन्स परीक्षा पैटर्न नीचे दिया गया है:


Sr. No Name of Tests No. of

Questions
Maximum

Marks
Medium of Exam Time allotted for each

test
1 General/ Financial Awareness 50 50 English & Hindi 35 minutes
2 English Language 40 40 English 35 minutes
3 Reasoning Ability & Computer Aptitude 50 60 English & Hindi 45 minutes
4 Quantitative Aptitude 50 50 English & Hindi 45 minutes
Total 190 200 160 minutes

महत्वपूर्ण सूचना - अनुभागीय कट ऑफ  IBPS क्लर्क मुख्य परीक्षा है। प्रत्येक गलत उत्तर पर आपके प्राप्त अंको में से एक-चौथाई अंक घटा दिए जायेंगे। एक उम्मीदवार को IBPS क्लर्क परीक्षा 2019 के माध्यम से भर्ती होने के लिए, IBPS क्लर्क प्रीलिम्स और IBPS क्लर्क मेन्स दोनों को उत्तीर्ण करना होगा।

डाटा विश्लेषण  (DI)

IBPS क्लर्क मेन्स परीक्षा में 4 सेक्शन होते हैं। उनमें से क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड में 50 अंकों के कुल स्कोर और 45 मिनट की समय-सीमा साथ 50 प्रश्न पूछे जाते हैं। इसका वेटेज अन्य टॉपिक की अपेक्षा कहीं अधिक है इसलिए इसे अत्यधिक महत्व दिया जाना चाहिए। क्वांटिटेटिव एप्टिट्यूड में DI सबसे स्कोरिंग विषय है और हम इस लेख में आपको बताएँगे कि आप कट-ऑफ DI के माध्यम से कैसे क्लियर कर सकते हैं। इसके अलावा, इसमें क्लर्क परीक्षा के लिए DI टिप्स हैं।

DI का महत्त्व 

  • DI में सबसे ज्यादा वेटेज है। यह कुल 8-10 अंक का पूछा जाता हैं।
  • IBPS क्लर्क मेन्स परीक्षा में एक सेक्शनल कट-ऑफ है और DI आपको आसानी से अंक दिलाएगा।
  • यह अन्य विषयों की तुलना में आसान है जैसे द्विघात समीकरण, डेटा पर्याप्तता आदि।

IBPS क्लर्क डाटा विश्लेषण तैयारी टिप्स 

आकड़ों का विश्लेषण आपके विश्लेषणात्मक कौशल की जाँच करता है। क्वांट के इस विषय में अच्छा स्कोर करने के लिए कुछ IBPS क्लर्क मेन्स DI ट्रिक्स और टिप्स इस प्रकार हैं:

DI के प्रकार :

परीक्षा में पूछे जाने वाले DI के प्रकारटेबल्स, पाई-चार्ट, बार ग्राफ और लाइन ग्राफ आदि।

टेबल्स: टेबल्स डेटा पेश करने के लिए सबसे आसान और सुविधाजनक तरीका है। तालिकाओं से विश्लेषण और ड्राइंग निष्कर्ष किसी भी अन्य विधि की तुलना में बहुत आसान है। टेबल्स, डेटा दर्शाने की मूलभूत विधि हैं। तालिकाओं में डेटा को पंक्तियों और स्तंभों में व्यवस्थित किया जाता है जिसके माध्यम से हम  कुशलतापूर्वक आसानी से डेटा की जांच कर सकते हैं.

पाई चार्ट: पाई चार्ट में एक सर्कल रूप में डेटा को दर्शाया जाता है। सर्कल कुल मूल्य और सर्कल के अलग-अलग हिस्सों कुछ भागों का डेटा प्रस्तुत करता है। पाई चार्ट दो प्रकार के होते हैं: Normal और Exploded

बार ग्राफ: एक बार ग्राफ X- अक्ष और Y- अक्ष का उपयोग करके ग्राफ पर डेटा दर्शाता  है। यह डेटा पेश करने का सबसे सुविधाजनक तरीका है। यह तरीका पाई चार्ट की तुलना में ज्यादा आसान है।

लाइन ग्राफ: लाइन ग्राफ सामान्य बार ग्राफ का सरल रूप है। लाइन ग्राफ से निष्कर्ष निकालना सरल है।

क्लर्क परीक्षा के लिए DI टिप्स 
  • प्रत्येक प्रकार के DI के कम से कम 20 प्रश्नों का अभ्यास करें।
  • कम समय में DI के प्रश्नों को हल करने का प्रयास करें।
  • अपने स्टैट्स पर काम करें।
  • DI आपके विश्लेषणात्मक कौशल को बढ़ाता है, इसलिए चार्ट, टेबल आदि पर काम करने की अपनी क्षमता के निर्माण पर अधिक ध्यान देने की कोशिश करें।

IBPS क्लर्क डेटा इंटरप्रिटेशन शॉर्ट ट्रिक्स

यहां कुछ IBPS क्लर्क मेन्स DI ट्रिक्स दिए गए हैं:
  • परीक्षा में पूछे गए DI के प्रकार को समझें (पाई चार्ट, टेबल आधारित, बार ग्राफ, लाइन ग्राफ, रडार ग्राफ या मिसकैरेज)
  • फॉर्म डेटा की तुलना में समझा जाना चाहिए (चाहे सभी दिए गए या कुछ छूटे हुए या मिश्रित रूप जैसे प्रतिशत का उपयोग, सटीक मान)
  • सभी निर्देशों को ध्यान से पढ़ें 
  • कैलकुलेशन पर ध्यान केंद्रित करें (तेज़ और कुछ समय सटीक मान की गणना करने की आवश्यकता नहीं है जैसे प्रतिशत प्रश्न या अनुपात प्रश्न)
  • कभी-कभी समय की बचत के रूप में विकल्पों का उपयोग करके उत्तर निकलना ज्यादा बेहतर होता है
यह भी पढ़ें :

Click Here to Register to Get Study Material for IBPS Clerk Mains Preparation

Buy Now