IBPS PO, IBPS क्लर्क और LIC असिस्टेंट की एक साथ तैयारी कैसे करें?

IBPS PO, IBPS क्लर्क और LIC असिस्टेंट की एक साथ तैयारी कैसे करें?


एक के बाद एक परीक्षा का लगातार आयोजन किया जा रहा है। उम्मीदवारों के पास सफलता प्राप्ति के लिए एक के बाद एक अवसर आते जा रहे हैं। इस वर्ष 24000 से अधिक रिक्तियां जारी की गई हैं जिनमें एलआईसी, आईबीपीएस पीओ / क्लर्क ( LIC, IBPS PO/Clerk ) जैसे तीन प्रमुख परीक्षाएं हैं। वर्तमान में LIC असिस्टेंट  अधिसूचना जारी की गई है, जिसके अनुसार 8000 (लगभग) रिक्तियां जारी की गई हैं और अब उम्मीदवार  IBPS पीओ, IBPS क्लर्क और एलआईसी असिस्टेंट की तैयारी में अपना पूरा ध्यान केन्द्रित कर चुके हैं। लगभग प्रत्येक बैंकिंग उम्मीदवार, बैंकिंग से सम्बंधित सभी परीक्षाओं के लिए तैयारी करता है और निकलने का प्रयास करता है। लेकिन एक साथ एक से अधिक की तैयारी में उम्मीदवार उलझन में फंस जाते हैं और महत्वपूर्ण बिन्दुओं प्राथमिकता नहीं देते हैं। नौकरी की सुरक्षा के कारण, सरकारी क्षेत्र की नौकरी उम्मीदवारों के बीच बहुत अधिक आकर्षण का केंद्र बन गया है। करियर ग्रोथ, प्रोफ़ाइल, वेतन संरचना, कार्य और जिम्मेदारी, वेतन, भत्ते और उनके द्वारा प्रदान किए जाने वाले अन्य लाभों की वजह से सरकारी परीक्षाएं उम्मीदवारों के बीच बहुत अधिक लोकप्रिय हैं।

हर पद का अपना महत्व है। अगर आप मेहनत कर रहें हैं तो आपको पता होना चाहिए कि आप क्यों और किसलिए इतना कठिन संघर्ष कर रहा है? आखिर में आपको क्या मिलेगा? और क्या यह परीक्षा तैयारी के लायक है? इस वर्ष बहुत सी परीक्षाएं आयोजित हो चुकी हैं और आगे भी आयोजित होने वाली हैं। LIC असिस्टेंट, IBPS PO, IBPS क्लर्क तीनों के सिलेबस लगभग सामान हैं या एक-दूसरे से मिलते-जुलते हैं, हालांकि LIC ने इस साल हिंदी को एक विषय के रूप में जोड़कर परीक्षा पैटर्न में कुछ बदलाव किए हैं, जो एक अतिरिक्त लाभ है, उनके लिए जिन्हें  अंग्रेजी भाषा को समझने में मुश्किल होती है या उसमें कम अंक प्राप्त करते हैं।

इसमें कोई शक नहीं कि यदि आप किसी भी बैंकिंग परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं, तो आप एक साथ कई तैयारी कर सकते हैं। इसके लिए दृढ़ निश्चय की आवश्यकता है, अभ्यास को नियमित करें और आप जो कर रहे हैं उस पर ध्यान केंद्रित करें। इस अनुच्छेद में हम एलआईसी सहायक, आईबीपीएस पीओ और आईबीपीएस क्लर्क की तैयारी एक साथ करने के बारे में चर्चा करेंगे। अगर आप भी जानना चाहते हैं कि तीनों की तैयारी कैसे करें तो इसके लिए हमारे साथ इस लेख में बने रहें।

LIC असिस्टेंट, IBPS PO और IBPS क्लर्क की तैयारी एक साथ कैसे करें?

यह सब आपकी लगन, क्षमता और बुद्धि पर निर्भर करता है कि आप तीनों परीक्षाओं की एक साथ तैयारी कर सकें। IBPS PO के रूप में कोई संदेह नहीं है कि आपका वेतन तुलनात्मक रूप से अधिक होगा, जबकि IBPS क्लर्क एक प्रवेश स्तर की परीक्षा है। आईबीपीएस क्लर्क की सैलरी लगभग 23000 है, जो पोस्टिंग की जगह पर निर्भर करता है। आईबीपीएस पीओ अधिकारी का वेतन सभी भत्तों सहित लगभग 44000 है। आपको तीनों परीक्षाओं के परीक्षा पैटर्न और सिलेबस और उनमें अंतर को समझने की आवश्यकता है। परीक्षा के पैटर्न और LIC असिस्टेंट, IBPS PO और IBPS क्लर्क के सिलेबस में अंतर पर एक नज़र डालते हैं।

  • IBPS PO और IBPS क्लर्क का पैटर्न समान है। रीजनिंग एबिलिटी, क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड और अंग्रेजी भाषा जैसे तीन सेक्शन हैं। यदि आप IBPS PO का लक्ष्य बना रहे हैं, तो आप IBPS क्लर्क के लिए भी तैयारी साथ में कर सकते हैं क्योंकि इसमें अलग से कोई विषय नहीं जोड़ा गया है।
  • LIC सहायक का पैटर्न अन्य बैंकिंग परीक्षाओं जैसे IBPS PO और IBPS क्लर्क के समान है। अंतर केवल इतना है कि इस बार एलआईसी ने हिंदी और अंग्रेजी भाषा में से एक विषय के रूप में चुने जाने का अवसर दिया है। अन्य सभी विषय और टॉपिक वही हैं।
  • इसलिए परीक्षा पैटर्न को ध्यान में रखते हुए, आप एलआईसी और आईबीपीएस परीक्षा की तैयारी एक साथ कर सकते हैं।
अगला कदम मेंस के लिए LIC असिस्टेंट, IBPS PO / क्लर्क के परीक्षा पैटर्न की जांच करना है। प्रीलिम्स परीक्षा में उत्तीर्ण होने के बाद उम्मीदवारों को मुख्य परीक्षा के लिए बुलाया जाएगा, तो आइए हम एलआईसी असिस्टेंट और आईबीपीएस परीक्षा के परीक्षा पैटर्न की तुलना करें।

  • आईबीपीएस पीओ मेन्स और आईबीपीएस क्लर्क मुख्य का परीक्षा पैटर्न समान है। इन दोनों में कोई अंतर नहीं है। एग्जाम में चार सेक्शन होंगे जैसे तार्किक क्षमता, संख्यात्मक अभियोग्यता, अंग्रेजी और जनरल अवेयरनेस (सामान्य जागरूकता)।
  • एलआईसी सहायक परीक्षा में कुल 5 सेक्शन होंगे। जहाँ IBPS परीक्षाओं की तुलना में LIC में एक अन्य अनुभाग हिंदी भाषा को जोड़ा गया है। अगर आप तीनों की तैयारी कर रहे हैं, तो आपको हिंदी के लिए भी समय देना होगा।
  • हालांकि ऐसे कोई बड़े बदलाव नहीं हैं, जिनकी वजह से इन तीनों की तैयारी एक साथ करने में कोई समस्या हो।

अब परीक्षा का स्तर, कठिनाई स्तर और LIC और IBPS परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्नों के प्रकार आते हैं। आइए हम तीनों के कठिनाई स्तर की तुलना करें।
LIC असिस्टेंट IBPS PO IBPS क्लर्क 
जैसा कि एलआईसी ने परीक्षा पैटर्न में कुछ बदलाव किए हैं, आप परीक्षा के स्तर को clerical स्तर का हो सकते हैं।

एलआईसी असिस्टेंट का स्तर मध्यम होने की उम्मीद की जा सकती है

एलआईसी असिस्टेंट परीक्षा के लिए कट ऑफ कठिनाई स्तर, प्रश्न के प्रकार और परीक्षा के स्तर पर तय की जाएगी।


आईबीपीएस एसबीआई के पदचिह्नों का पालन करने के लिए जाना जाता है। क्वांट सेक्शन में SBI में कुछ बड़े बदलाव किए गए थे और छात्र IBPS PO में भी यही उम्मीद कर सकते हैं।

IBPS PO का स्तर आसान-मध्यम रहता है जबकि IBPS PO मेंस का स्तर आपको मुश्किल में डाल सकता है।

IBPS PO प्री के लिए कट ऑफ परीक्षा की कठिनाई के स्तर पर निर्भर करता है।

परीक्षा को हल करने के लिए परीक्षा को लंबा करने के आलावा एसबीआई क्लर्क में कोई बदलाव नहीं देखा गया। आईबीपीएस क्लर्क में भी यही उम्मीद है।

IBPS क्लर्क का स्तर आम तौर पर आसान होता है। लेकिन आईबीपीएस क्लर्क मेंस के प्रश्नों में जटिलता के कारण हल करना  करना मुश्किल है।

परीक्षा के आसान स्तर के कारण IBPS क्लर्क प्रीलिम्स के लिए कट ऑफ आमतौर पर अधिक होता है।


अब सवाल उठता है कि क्या एलआईसी असिसटेंट, आईबीपीएस पीओ और आईबीपीएस क्लर्क के लिए पाठ्यक्रम समान है? क्या इन तीनों परीक्षाओं को एक साथ तैयार किया जा सकता है?

सवाल का जवाब हां है! एलआईसी असिस्टेंट (सहायक) में एक अन्य विषय को जोड़ने के अलावा सभी तीन विषयों के लिए पाठ्यक्रम समान है। एकमात्र अंतर कठिनाई के स्तर में है। सभी परीक्षाओं के लिए एक साथ आसानी से तैयारी कर सकते हैं सभी परीक्षाओं के लिए कैलकुलेशन स्पीड , तर्क क्षमता और गलती न करें, इन बातों पर ध्यान देने की आवश्यकता और कई प्रकार के प्रश्नों का अभ्यास करना।

एलआईसी सहायक, आईबीपीएस पीओ और आईबीपीएस क्लर्क 2019 के लिए समय का प्रबंधन और तैयारी कैसे करें?


  • अभ्यास ही सफलता प्राप्ति की कुंजी है। जितना अधिक आप अभ्यास करते हैं उतना अधिक आप अपने लक्ष्य के और नजदीक पहुँच जाते हैं।
  • सभी विषयों के लिए अपनी क्षमता के अनुसार समय बाँटें और एलआईसी सहायक के लिए हिंदी को अलग से समय दें।
  • अपने मजबूत और कमजोर बिंदुओं का आकलन करें और नियमित उन पर सुधर करने का प्रयास करें। यदि आप संख्यात्मक अभियोग्यता में अच्छे हैं, तो आप तीनों परीक्षाओं में सबसे पहले इस खंड को हल करें, आपको जो भी करना है उसका अभ्यास पहले से अनुभाग-वार मॉक के माध्यम से करें और अपनी गति में सुधार करें।
  • यदि आप अंग्रेजी में बहुत अच्छे नहीं हैं और यह आपका कमजोर पक्ष है। कोई चिंता नहीं, अपना समय विभाजित करें और अंग्रेजी विषय के लिए अधिक समय निर्धारित करें। 
  • आप किसी भी अनुभाग को पूरी तरह नहीं छोड़ सकते हैं, इसलिए जो कमजोर है, उस पर इतना ध्यान जरुर दें कि अनुभागीय कटऑफ के अनुसार आप उत्तीर्ण हो जाएँ।
  • सप्ताह में कम से कम तीन बार प्रत्येक परीक्षा के लिए मॉक टेस्ट दें। इससे आपको अपनी गति, सटीकता की सहायता मिलेगी और आपके समग्र प्रदर्शन में सुधार होगा।
  • मेमोरी बेस्ड पेपर से तैयारी करें। इससे आपको पिछले वर्ष के परीक्षा पैटर्न और स्तर से परिचित होने में मदद मिलेगी और आगामी परीक्षाओं में अच्छा करने में मदद मिलेगी।
  • सभी परीक्षाओं के लिए एक साथ तैयारी करना अच्छा है लेकिन तब, जब आप बड़े लक्ष्य का पीछा करते हैं अन्यथा आप आपने मार्ग सफलता से चूक सकते हैं।
  • उदाहरण के लिए IBPS PO को अपना लक्ष्य बनाएं, और अंततः आप उनमें से कम से कम किसी एक को क्रैक कर पाएंगे, जिसके लिए आप संघर्ष कर रहे थे।

हमें उम्मीद है कि इस लेख ने आपको आगामी परीक्षाओं में की तैयारी के लिए मार्गदर्शन प्रदान किया होगा। अब आपके पास ज्यादा समय नहीं है। आपको बिना किसी देरी के अपनी तैयारी तुरंत शुरू कर देनी चाहिए। प्रीलिम्स परीक्षा की तारीखों का खुलासा कर दिया गया है तो आप किसका इंतजार कर रहे हैं? Adda247 द्वारा अध्ययन सामग्री के साथ तैयार करें। अपनी तैयारी के लिए एलआईसी और आईबीपीएस के लिए नवीनतम और स्मार्ट टेस्ट सीरीज का चयन करें।