20/06/2017

भारतीय अर्थव्यवस्था को जानें | RBI Grade-B और नाबार्ड परीक्षा 2017 के लिए भारतीय अर्थव्यवस्था

प्रिय पाठकों,

भारतीय आर्थिक विकास दर और सांख्यिकी के विषय में - आरबीआई ग्रेड बी और नाबार्ड 2017 के लिए महत्वपूर्ण विषय

Know-about-Indian-Economy

आर्थिक और सामाजिक मुद्दों एक ऐसा विषय है जो आजकल बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि कई बैंकिंग परीक्षाओं में इस विशेष विषय से एक अनुभाग आ रहा है. जैसे आरबीआई ग्रेड बी चरण द्वितीय परीक्षा में और नाबार्ड के प्राथमिकताओं में इस विषय के लिए एक खंड होगा, इसलिए इसके बारे में ज्ञान रखना महत्वपूर्ण है और इसके लिए हम आपको इस पर आधारितनोट्स प्रदान कर रहे हैं. आज का विषय "भारतीय अर्थव्यवस्था" है
प्रस्तावना

केंद्रीय सांख्यिकी संगठन (CSO) और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के अनुसार भारत दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्था के रूप में उभरा है।
भारत सरकार ने अनुमान लगाया है कि वित्त वर्ष 2016-17 में भारतीय अर्थव्यवस्था 7.1 प्रतिशत की दर से बढ़ेगी। आर्थिक सर्वेक्षण 2016-17 के अनुसार, वित्तीय वर्ष 2017-18 के दौरान भारतीय अर्थव्यवस्था 6.75 से 7.5 प्रतिशत के बीच बढ़ेगी। मजबूत आर्थिक सुधार, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) की मुद्रास्फीति केन्द्रित नीति और अनुकूल वैश्विक कमोडिटी कीमतों के संयुक्त  प्रभाव के साथ वर्ष 2015 में भारत की आर्थिक मूल सिद्धांतों को गति मिली है।
बाजार अनुसंधान एजेंसी, निल्सन के अनुसार, भारत का उपभोक्ता विश्वास सूचकांक वर्ष 2016 की चौथी तिमाही में 136 था, जो कि उपभोक्ता भावना के परिणामस्वरूप एक ही पैरामीटर पर देशों की वैश्विक सूची में शीर्ष पर है। मूडीज ने भारत सरकार के Baa3 रेटिंग को एक सकारात्मक दृष्टिकोण से पुष्टि की है जिसमें कहा गया है कि सरकार द्वारा सुधारों से देश अपने सहयोगियों की तुलना में मध्यम अवधि के मुकाबले बेहतर प्रदर्शन कर सकेगा।


बाजार आकार

अक्टूबर-दिसंबर 2016 की तिमाही में भारत के सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में वार्षिक आधार पर 7 प्रतिशत की वृद्धि हुई, जो आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (OECD) भारत के आर्थिक सर्वेक्षण, 2017 के अनुसार G-20 देशों में सबसे मजबूत है। IMF वर्ल्ड इकनॉमिक आउटलुक अपडेट (जनवरी 2017) के अनुसार,  भारतीय अर्थव्यवस्था के 2016-17 के दौरान 7.2 प्रतिशत से बढ़ने की संभावना है और यह वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान और 7.7 प्रतिशत की गति से आगे बढ़ेगी।

अप्रैल 2016 और जनवरी 2017 के बीच कर संग्रहण आंकड़े 16.9 प्रतिशत से नेट अप्रत्यक्ष कर में वर्षिक वृद्धि और शुद्ध प्रत्यक्ष कर में 10.7 9 प्रतिशत वार्षिक वृद्धि दर्शाते हैं, जो कि स्वस्थ विकास की स्थिर प्रवृत्ति का संकेत देते हैं। e-filed आयकर रिटर्न की कुल संख्या 2016-17 से 28.12.2010 तक 21 प्रतिशत बढ़कर 42.1 मिलियन हो गई, जबकि इसी अवधि के दौरान संसाधित ई-रिटर्न की संख्या 43 मिलियन हो गयी है।

ब्लूमबर्ग सेन्सस के अनुसार, भारत में कॉर्पोरेट आय में, विशेषकर ऑटोमोबाइल और बैंक जैसे क्षेत्रों में लाभ के सामान्यीकरण की वजह से वित्त वर्ष 2017-18-18 में 20 प्रतिशत की वृद्धि होने की उम्मीद है, जबकि जीडीपी में 7.5 प्रतिशत की वृद्धि होने की उम्मीद है। नैसकॉम की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत ने 4,750 से अधिक तकनीकी स्टार्टअप के साथ विश्व में तीसरा सबसे बड़ा स्टार्टअप बेस के रूप में अपनी स्थिति को बरकरार रखी है, जिसमें लगभग 1,400 नए स्टार्ट-अप्स की स्थापना 2016 में हुई थी।

एसोचैम और थॉट आर्बिट्रेज रिसर्च इंस्टीट्यूट के एक अध्ययन के अनुसार, जनसंख्या वृद्धि दर, श्रमबल की भागीदरी में वृद्धि और अन्य कारकों में उच्च शिक्षा में नामांकन के आधार पर, 2020 तक भारत के श्रम बल के 160-170 मिलियन तक पहुँचने की उम्मीद है। भारतीय रिजर्व बैंक के आंकड़ों के अनुसार, मार्च 2016 के अंत तक 360  अरब डॉलर के मुकाबले 17 मार्च, 2017 तक भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 366.781 अरब डॉलर था।

हाल में हुए परिवर्तन 

आर्थिक परिदृश्य में सुधार के साथ, M&A गतिविधि में वृद्धि के लिए कई निवेश किए गए हैं। उनमें से कुछ इस प्रकार हैं:

1. औद्योगिक नीति एवं संवर्धन विभाग (DIPP) और भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) की नीति उद्योग ने ग्लोबल इनोवेशन इंडेक्स (GII) के साथ-साथ सभी भारतीय राज्यों के नवाचार डेटा को कैप्चर करके और उन्हें नियमित रूप से अपडेट करके नवाचार के आधार पर राज्यों को रैंक करने के लिए "भारत नवाचार सूचकांक" लांच किया है

2. केंद्रीय कैबिनेट, भारत सरकार ने केन्द्रीय माल और सेवा कर (CGST), एकीकृत जीएसटी (IGST), संघ राज्य क्षेत्र जीएसटी (UTGST) और मुआवजा बिल को मंजूरी दे दी है.

3. केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारत और संयुक्त अरब अमीरात (संयुक्त अरब अमीरात) के बीच एक समझौता ज्ञापन (MoU) को मंजूरी दे दी है, जिसका उद्देश्य दोनों देशों के बीच छोटे और मध्यम उद्यमों (SMEs) के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाना, और इससे भारतीय SMEs को बेहतर बनाने और आगे बढ़ाने के लिए अवसर प्रदान किया करना है.

4. केंद्रीय मंत्रिमंडल ने ग्रामीण विकास के लिए क्षमता निर्माण कार्यक्रमों को लागू करने के लिए भारत और अफ्रीकी एशियाई ग्रामीण विकास संगठन (AARDO) के बीच समझौता ज्ञापन को मंजूरी दी है।.

5. केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारत और हंगरी के बीच एक समझौता ज्ञापन को मंजूरी दे दी है, जिसका लक्ष्य जल प्रबंधन के क्षेत्र में द्विपक्षीय सहयोग को बेहतर बनाना है, जिससे दोनों देशों के जल संसाधनों से संबंधित सार्वजनिक और निजी संगठनों के बीच संबंधों को विकसित करने की उम्मीद है.

6. भारत सरकार और संयुक्त राज्य अमेरिका की सरकार ने टिकाऊ विकास को बढ़ावा देने के लिए द्विपक्षीय द्विपक्षीय वृद्धि और आगे की संयुक्त पहल के माध्यम से ऊर्जा सुरक्षा, स्वच्छ ऊर्जा और जलवायु परिवर्तन पर सहयोग बढ़ाने के लिए एक सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किए हैं

7. भारत सरकार ने वित्तीय वर्ष 2017-18 में लगभग 10 लाख करोड़ रुपये (यूएस $ 153.64 बिलियन) के अनुमानित खनिज मूल्य के साथ 280 खानों की नीलामी की योजना बनाई है, और भूगर्भ मानचित्र तैयार करने और खानों का निरीक्षण करने के लिए ड्रोन टेक्नोलॉजी का उपयोग भी किया जाएगा.

8. वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक,भारतीय व्यापारिक वस्तुओं के निर्यात में फरवरी 2017 में प्रतिवर्ष वार्षिक आधार पर 24.4 9 अरब डॉलर की वृद्धि दर्ज की गई है.

9. CSO के अनुसार, फरवरी 2017 की खुदरा कीमत मुद्रास्फीति 3.65 प्रतिशत पर दर्ज की गई थी, जो एक वर्ष पहले 5.26 प्रतिशत थी.

10. जनवरी 2017 में भारत का उद्योग उत्पादन वार्षिक आधार पर 2.74 प्रतिशत बढ़ा है, पूंजीगत वस्तुओं के क्षेत्र में अच्छे प्रदर्शन के चलते वर्ष इसमें दर वर्ष वृध्दि दर 10.7 प्रतिशत दर्ज की गई.

सरकारी पहल

1. भारत सरकार ने काले धन और नकली भारतीय मुद्रा नोटों के बढ़ते खतरे को खत्म करने के लिए 8 नवंबर, 2016 को प्रभावी ढंग से 1000 रुपये और 500 रुपये के उच्च संप्रदाय बैंक नोटों की घोषणा की है, जिससे आर्थिक विकास में सुधार के अवसर पैदा होंगे.

2. वर्ष 2017-18 के केंद्रीय बजट में, वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली ने पुष्टि की है कि बजट प्रस्तावों का प्रमुख कारण विकास, मध्य वर्ग को राहत प्रदान करन, किफायती आवास प्रदान करन, काले धन को रोकना, अर्थव्यवस्था का डिजिटलीकरण, राजनीतिक वित्त पोषण में पारदर्शिता बढ़ान और देश में कर प्रशासन को सरल बनाने पर केंद्रित है

3.ग्रामीण नौकरियों और महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा) योजना के प्रति सरकार के बढ़ते दृष्टिकोण में वृद्धि के परिणामस्वरूप फरवरी 2017 में भारत की बेरोजगारी दर घटकर 4.8 प्रतिशत रह गई, जो अगस्त 2016 में 9.5 फीसदी थी.

4. महाराष्ट्र के राज्यपाल विद्यासागर राव के अनुसार महाराष्ट्र सरकार ने 2022 तक बड़े पैमाने पर सूक्ष्म सिंचाई, जल संरक्षण, औपचारिक नकदी ऋण, फसल बीमा और कृषि विविधीकरण जैसे उपायों के जरिए 2022 तक दोहरी खेती की आय को दोहरी करने का लक्ष्य रखा है.

5. मेक इन इंडिया और डिजिटल इंडिया जैसे विभिन्न सरकारी पहलों के कारण कई विदेशी कंपनियां भारत में अपनी सुविधाएं स्थापित कर रही हैं. भारत के प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय अर्थव्यवस्था के विनिर्माण क्षेत्र को बढ़ावा देने , ताकि औसत भारतीय उपभोक्ता की क्रय शक्ति को बढ़ाया जा सके, जो मांग को और बढ़ावा देगा और इसलिए विकास को प्रोत्साहित करेगा , निवेशकों को लाभ के अलावा अन्य उद्देश्य से मेक इन इंडिया की पहल की शुरुआत की है. मेक इन इंडिया की पहल के तहत भारत सरकार, विनिर्माण क्षेत्र द्वारा किए गए योगदान को बढ़ावा देने की कोशिश कर रही है और इसका लक्ष्य मौजूदा 17 फीसदी जीडीपी को 25 फीसदी तक पहुँचाने ले जाया जाएगा. इसके अलावा, सरकार डिजिटल इंडिया पहल के साथ भी आई है, जो तीन मुख्य घटकों: डिजिटल बुनियादी ढांचे का निर्माण, डिजिटल सेवाएं देने और डिजिटल साक्षरता बढ़ाने पर केंद्रित है.

डिजिटल इंडिया की पहल के तहत भारत सरकार ने कई कदम उठाए हैं. उनमें से कुछ इस प्रकार हैं:

1. भारत सरकार अपनी दो डिजिटल पहल, यूनाइटेड पेमेंट इंटरफ़ेस (UPI) और अनस्ट्रक्चर्ड सप्परमेंटरी सर्विस डाटा (USSD) को संशोधित करने की योजना बना रही है ताकि उपभोक्ताओं को इंटरनेट कनेक्शन के साथ या इसके बिना, आसानी से लेनदेन करने में सक्षम बनाया जा सके और यह भारत को एक डिजिटल अर्थव्यवस्था बनाने की दिशा में एक मजबूत सहायता देगा.

2. प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने भारत इंटरफेस फॉर मनी (BHIM) ऐप, एक आधार आधारित मोबाइल भुगतान आवेदन शुरू किया है, जो उपभोक्ताओं को एक क्रेडिट या डेबिट कार्ड का उपयोग किए बिना डिजिटल भुगतान करने की अनुमति देगा.

3. भारत सरकार ने एक डिजिटल रोजगार विनिमय शुरू किया है जो औद्योगिक उद्यमों को उपयुक्त श्रमिकों रोजगार और नौकरी चाहने वालों को ढूढने की अनुमति देगा. पहल का मुख्य उद्देश्य हितधारकों के बीच संचार को सुदृढ़ बनाना और MSME मंत्रालय में सेवा वितरण की दक्षता में सुधार करना है. MSME मंत्रालय में अधिकारियों के अनुसार, अभी तक 200,000 लोगों ने वेबसाइट पर पंजीकरण कराया है.

4. मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने हाल ही में केन्द्रीय विद्यालय संघटन (KVS) ई-इनिशिएटिव ' KV शालादर्पण' का शुभारंभ किया, जिसका उद्देश्य छात्रों के बारे में एक मंच पर इलेक्ट्रॉनिक रूप से जानकारी प्रदान करना है. यह कार्यक्रम डिजिटल इंडिया को साकार करने की दिशा में एक कदम है और यह अच्छे प्रशासन को दर्शाएगा.

5. भारत सरकार ने घोषणा की है कि सारनाथ, बोधगया और ताज महल जैसे सभी प्रमुख पर्यटन स्थलों में डिजिटल इंडिया पहल के हिस्से के रूप में वाई-फाई की सुविधा प्रदान की जाएगी. इसके अलावा, सरकार ने वाराणसी घाटों पर मुफ्त वाई-फाई सेवा मुहैया कराई है.

6. भारत सरकार ने 100 स्मार्ट शहरों के साथ-साथ 500 शहरों को अटल मिशन फॉर रीज्यूएशन एंड अर्बन ट्रांसफॉर्मेशन (AMRUT) के लिए क्रमश: 48,000 करोड़ रुपये (7.47 बिलियन यूएस $) और 50,000 करोड़ रुपये (7.34 बिलियन यूएस $) के साथ एक पहल की शुरुआत की है. स्मार्ट सिटी बड़े शहरों के सैटेलाइट कस्बों हैं जिनमें आधुनिक बुनियादी ढांचे शामिल होंगे और वह डिजिटल रूप से जुड़ेगे.

7. नासकॉम की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में डिजिटल प्रौद्योगिकी के तेजी से अभिग्रहण के द्वारा समर्थित इंटरनेट उपयोगकर्ताओं की संख्या 2020 तक 730 मिलियन तक पहुंचने की उम्मीद की जा रही है.

आगे का मार्ग

विश्व बैंक के अनुसार -
विश्व बैंक को उम्मीद है कि इस वित्तीय वर्ष में भारत की अर्थव्यवस्था 7.2 प्रतिशत तक विस्तार करेगी, लेकिन उन्होंने कहा कि इस विमुद्रीकरण ने पिछले वित्तीय वर्ष के विकास को बाधित किया, जो अनुमानित 6.8 प्रतिशत है. रिपोर्ट 31 मई को केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (CSO) द्वारा 2016-17 के लिए राष्ट्रीय आय के अनंतिम अनुमान जारी करने से पहले आयी है.

CSO, के अग्रिम अनुमान में, 2016-17 में जीडीपी विकास दर का आंकलन 7.1 प्रतिशत था. विश्व बैंक ने जनवरी में 2016-17 के दौरान भारत के विकास पूर्वानुमान को घटाकर 7 प्रतिशत कर दिया था और 2017-18 में इसे पुन: 7.6 प्रतिशत के स्तर लाया गया है:. हालांकि, यह उम्मीद की जा रही है कि अर्थव्यवस्था 2019 -2020 में धीरे-धीरे और विकास 7.7 प्रतिशत तक बढ़ेगा.

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के अनुसार-
आधिकारिक अग्रिम अनुमान 7.1 प्रतिशत के मुकाबले विमुद्रीकरण के कारण 2016-17 में भारत की आर्थिक वृद्धि 6.8 प्रतिशत होगी, यदि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) का अनुमान सही जाता है।  IMF ने पहले कहा था कि 2016-17 में विकास दर 6.6 प्रतिशत होगा।

आईएमएफ द्वारा जारी अपने वर्ल्ड इकनोमिक आउटलुक में, इसने 2017-18 में वृद्धि के अपने जनवरी 2017 के अनुमान 7.2 प्रतिशत को बरकरार रखा है। हालाँकि यह नोटबंदी से पहले अक्टूबर के 7.4 प्रतिशत के इसके अनुमान से 0.4 प्रतिशत बिंदु कम है। 2018-19 के लिए विकास दर 7.7 प्रतिशत अनुमानित है। कोष ने नीतिनिर्माताओं को सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के अशोध्य ऋण की समस्या को पहचानने और उन्हें पूँजी प्रदान करने की सलाह दी है।

एशियाई विकास बैंक (ADB)-
एशियाई विकास बैंक (ADB) ने कहा है कि 2017-18 के दौरान भारत की विकास दर 7.4 प्रतिशत तक सुधार करेगी और अगले वित्त वर्ष में यह बढ़कर 7.6 प्रतिशत हो जाएगी, जो चीन से अधिक है.

ADB के प्रमुख आर्थिक प्रकाशन, एशियाई विकास आउटलुक, ने कहा कि  "उच्च मूल्यवर्ग वाले बैंक नोटों के विमुद्रीकरण का असर कम हो रहा है क्योंकि प्रतिस्थापित बैंकनोट परिचालित हो रहे है. मजबूत खपत और राजकोषीय सुधारों से भी देश में व्यावसायिक विश्वास और निवेश की संभावनाओं में सुधार की उम्मीद है’.

भारत ने 2016-17 के दौरान विकास दर  में 7.1 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की थी, भले ही पिछले वर्ष नवंबर में 500/1,000 रुपये के उच्च मूल्यवर्ग के मुद्रा नोटों के विमुद्रीकरण से आर्थिक विकास पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है. भारत, उप-क्षेत्र की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में, वित्तीय वर्ष (2017-18) में विकास दर 7.4 प्रतिशत और 2018-19 में 7.6 प्रतिशत तक पहुंचने की उम्मीद है, जो पिछले वित्तीय वर्ष में 7.1 प्रतिशत पर दर्ज की गयी थी .





CRACK IBPS PO 2017



11000+ (RRB, Clerk, PO) Candidates were selected in IBPS PO 2016 from Career Power Classroom Programs.


9 out of every 10 candidates selected in IBPS PO last year opted for Adda247 Online Test Series.

No comments:

Post a Comment