National Sports Day (राष्ट्रीय खेल दिवस) 2021: राष्ट्रीय खेल दिवस कब, क्यों और कैसे मनाया जाता है (नेशनल स्पोर्ट्स डे)

National Sports Day (राष्ट्रीय खेल दिवस) 2021: राष्ट्रीय खेल दिवस कब, क्यों और कैसे मनाया जाता है (नेशनल स्पोर्ट्स डे)


 National Sports Day 2021: Importance Of National Sports Day, History, And Celebrations | साल 2021 में राष्ट्रीय खेल दिवस कब है? (National Sports Day 2021 date) | History and Importance of National Sports Day

National Sports Day 2021: 29 अगस्त को हर साल भारत में National Sports Day या राष्ट्रीय खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है. इस बार का  राष्ट्रीय खेल दिवस (नेशनल स्पोर्ट्स डे) इसलिए भी ख़ास है क्योंकि, भारत ने हाल ही में हुए टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में भारत (India) ने टोक्यो गेम्स 2020 में अपने अब तक के बेस्ट  यानी 7 ओलंपिक पदक हासिल किये हैं.

इस दिन के महत्त्व की बात की जाए, तो यह दिन मेजर ध्यानचंद के सम्मान में मनाया जाता है और विभिन्न खेलों में खिलाडियों के महत्वपूर्ण योगदान के लिए राजीव गांधी खेल रत्न, अर्जुन पुरस्कार, ध्यानचंद पुरस्कार और द्रोणाचार्य पुरस्कार जैसे पुरस्कारों से सम्मानित किया जाता है. आइये, जानते हैं 'राष्ट्रीय खेल दिवस', जानें क्यों हर साल 29 अगस्त को मनाया जाता है?  




Rashtriya khel divas क्यों मनाया जाता है? | National Sports Day In Hindi



Major Dhyan Chand : कौन थे मेजर ध्यानचंद?


29 अगस्त 2012 को पहली बार राष्ट्रीय खेल दिवस मेजर ध्यानचंद (Major Dhyan Chand) के अवसर पर मनाया गया था. Major Dhyan Chand के सम्मान में इस दिन को राष्ट्रीय खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है. मेजर ध्यानचंद का जन्म 29 अगस्त 1905 को इलाहाबाद में हुआ था और वह अपने समय के महान हॉकी खिलाड़ी थे. उन्हें हॉकी खिलाड़ी के स्टार या "हॉकी का जादूगर" के रूप में जाना जाता था, क्योंकि उनकी अवधि के दौरान, उनकी टीम ने वर्ष 1928, 1932 और 1936 के दौरान ओलंपिक में स्वर्ण पदक हासिल किए थे. उन्होंने 1926 से 1949 तक 23 वर्षों तक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हॉकी खेली. उन्होंने अपने करियर में कुल 185 मैच खेले और 570 गोल किए. वह हॉकी के प्रति इतने समर्पित थे कि वह चांदनी रात में खेल के लिए अभ्यास किया करते थे, जिससे उसका नाम ध्यानचंद पड़ गया. 1956 में, ध्यानचंद को पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया, वह यह सम्मान पाने वाले तीसरे नागरिक थे.



History of National Sports Day : राष्ट्रीय खेल दिवस (नेशनल स्पोर्ट्स डे) 2021 का इतिहास


सन 1979 में, भारतीय डाक विभाग ने मेजर ध्यानचंद को उनकी मृत्यु के बाद श्रद्धांजलि दी और दिल्ली के राष्ट्रीय स्टेडियम का नाम बदलकर मेजर ध्यानचंद स्टेडियम, दिल्ली कर दिया. 2012 में, यह घोषणा की गई थी कि खेल की भावना के बारे में जागरूकता फैलाने और विभिन्न खेलों के संदेश का प्रचार करने के उद्देश्य से एक दिन को राष्ट्रीय खेल दिवस के रूप में मनाया जाना चाहिए और इसके लिए फिर से मेजर ध्यानचंद को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि दी गई और 29 अगस्त को भारत में राष्ट्रीय खेल दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की गई.




आइये, एक बार टोक्यो ओलंपिक 2020 में  भारत के प्रदर्शन क बारे में भी जान लेते हैं : 

टोक्यो ओलंपिक 2020 में भारत

  • भारत (India) ने टोक्यो गेम्स 2020 में 7 के अपने अब तक के सर्वश्रेष्ठ ओलंपिक पदक के साथ खेलों का समापन किया, 2012 के लंदन ओलंपिक (London Olympics) में 6 पदकों के पिछले सर्वश्रेष्ठ रिकॉर्ड को पीछे छोड़ दिया।
  • एमसी मैरी कॉम (MC Mary Kom) और पुरुष हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह (Manpreet Singh) उद्घाटन समारोह में भारतीय दल के ध्वजवाहक थे।
  • कार्यक्रम के समापन समारोह में कांस्य पदक विजेता बजरंग पुनिया (Bajrang Punia) ध्वजवाहक थे।

भारतीय पदक विजेताओं की सूची

  • स्वर्ण

पुरुषों की भाला फेंक: नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra)

 

  • रजत

महिलाओं की 49 किग्रा भारोत्तोलन: मीराबाई चानू (Mirabai Chanu)

पुरुषों की फ्रीस्टाइल 57 किग्रा कुश्ती: रवि दहिया (Ravi Dahiya)

 

  • कांस्य

महिला वेल्टरवेट मुक्केबाजी: लवलीन बोरगोहेन (Lovlina Borgohain)
महिला एकल बैडमिंटन: पीवी सिंधु (PV Sindhu)
पुरुषों की 65 किग्रा फ्रीस्टाइल कुश्ती: बजरंग पुनिया (Bajrang Punia)

पुरुष हॉकी: भारत पुरुष हॉकी टीम

 



Also Read,