Ram Janmabhoomi : जानिए क्या है राम जन्मभूमि का इतिहास, तथ्य और डोनेशन ट्रस्ट सम्बन्धी महत्वपूर्ण बातें

Ram Janmabhoomi : जानिए क्या है राम जन्मभूमि का इतिहास, तथ्य और डोनेशन ट्रस्ट सम्बन्धी महत्वपूर्ण बातें



Ram Janmabhoomi- History, Facts and Trust Donation Name 

Ram Mandir Bhumi Pujan : राम जन्मभूमि भगवान राम के जन्म के स्थान को कहा जाता है। भगवान राम हिंदू भगवान विष्णु के सातवें अवतार माने जाते हैं। रामायण के अनुसार राम के जन्म का स्थान "अयोध्या"(Ayodhya) शहर में है। मंदिर निर्माण 5 अगस्त 2020 को भूमिपूजन समारोह के बाद फिर से शुरू होगा। पूरा होने के बाद, राममंदिर मंदिर कॉम्प्लेक्स दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा हिंदू मंदिर होगा। राम जन्मभूमि के इतिहास, तथ्यों और डोनेशन ट्रस्ट के नाम आदि जानकारी नीचे दी गयी है। 

Ram Janmabhoomi History: राम जन्मभूमि का इतिहास

पिछले कई वर्षों से राजनीतिक, ऐतिहासिक और सामाजिक-धार्मिक तकरार, और  बाबरी मस्जिद का स्थान सम्बन्धी विवाद और इसे बनाने के लिए क्या किसी मंदिर को तोड़ा गया था, यह अयोध्या विवाद के रूप में जाना जाता है।


भारत में हिंदुओं के एक वर्ग का दावा है कि राम की जन्मभूमि का सटीक स्थान वह है जहाँ बाबरी मस्जिद थी। इस मान्यता के अनुसार, मुगलों ने उस स्थान पर एक हिंदू मंदिर को नष्ट कर दिया और इस मस्जिद का निर्माण किया। लोगों ने इस मान्यता का विरोध किया जिसमें यह कहा गया था कि इस तरह के दावे केवल 18 वीं शताब्दी में सामने आते हैं और यह राम के जन्मस्थान होने का कोई सबूत नहीं है।


1853 में, निर्मोही अखाड़ा से संबंधित सशस्त्र हिंदू संतों के एक समूह ने बाबरी मस्जिद स्थल का अधिग्रहण किया और संरचना के स्वामित्व का दावा किया। इसके बाद, नागरिक प्रशासन ने इसमें दखल दिया, और 1855 में, मस्जिद परिसर को दो भागों में विभाजित किया: एक हिंदुओं के लिए, और दूसरा मुसलमानों के लिए।


1883 में, हिंदुओं ने मंच पर एक मंदिर बनाने का प्रयास शुरू किया। जब प्रशासन ने उन्हें ऐसा करने की अनुमति से इनकार किया, तो वे इस मामले को अदालत में ले गए। 1885 में, हिंदू उप न्यायाधीश पंडित हरि किशन सिंह ने मुकदमा खारिज कर दिया। इसके बाद, उच्च न्यायालय ने भी 1886 में इसी पक्ष में मुकदमा खारिज कर दिया।


दिसंबर 1949 में, कुछ हिंदुओं ने दावा किया कि मस्जिद में राम और सीता की मूर्तियाँ चमत्कारिक रूप से दिखाई दी थीं। जैसे ही हजारों हिंदू भक्तों ने वहां जाना शुरू किया, उसके बाद सरकार ने मस्जिद को एक विवादित क्षेत्र घोषित कर दिया और दरवाजों पर ताला लगा दिया। बाद में, हिंदुओं के कई मुकदमों ने स्थल को पूजा स्थल में बदलने की अनुमति मांगी।


1980 के दशक में, विश्व हिंदू परिषद (VHP) और अन्य हिंदू राष्ट्रवादी समूहों और राजनीतिक दलों ने स्थल पर राम जन्मभूमि मंदिर बनाने का अभियान शुरू किया। राजीव गांधी सरकार ने प्रार्थना के लिए हिंदुओं को स्थल में प्रवेश करने की अनुमति दी।


6 दिसंबर 1992 को, हिंदू राष्ट्रवादियों ने मस्जिद में तोडफ़ोड़ की, जिसके परिणामस्वरूप सामूहिक भगदड़ हुई, जिसमें 2,000 से अधिक लोग मारे गए।


2003 में, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) ने अदालत के आदेश पर साइट की खोज की। ASI की रिपोर्ट में मस्जिद के नीचे 10 वीं शताब्दी के उत्तर भारतीय शैली के मंदिर की मौजूदगी की बात कही गयी। मुस्लिम समूहों और उनका समर्थन करने वाले इतिहासकारों ने इन निष्कर्षों पर विवाद किया और इसे राजनीति से प्रेरित बताया। हालांकि, इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने ASI के निष्कर्षों को माना। ASI द्वारा कही गयी इस बात को अदालत द्वारा प्रमाण के रूप में काफी उपयोग किया गया कि पूर्ववर्ती संरचना एक विशाल हिंदू धार्मिक इमारत थी।


2009 में, भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने अपना चुनावी घोषणा पत्र जारी किया, और इस स्थल पर राम मंदिर बनाने के अपने वादे को दोहराया।


2010 में, इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने आदेश दिया कि 2.77 एकड़ (1.12 हेक्टेयर) के विवादित भूमि को 3 भागों में विभाजित किया जाए, जिसमें 1⁄3 राम लल्ला को दी जाए, 1⁄3 मुस्लिम सुन्नी वक्फ बोर्ड को दी जाय और शेष 1⁄3 हिंदू धार्मिक संप्रदाय निर्मोही अखाड़ा को दी जाए।


2019 में, सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की बेंच ने अगस्त से अक्टूबर 2019 तक इस विवादित केस की सुनवाई की।
9 नवंबर 2019 को सुप्रीम कोर्ट ने जमीन को हिंदू मंदिर के निर्माण के लिए एक ट्रस्ट को सौंपने को कहा। इसने सरकार को मस्जिद बनाने के लिए सुन्नी वक्फ बोर्ड को 5 एकड़ जमीन देने का भी आदेश दिया।


Ram Mandir Facts :राम मंदिर सम्बन्धी तथ्य

राम मंदिर के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य निम्नलिखित है:
  • 5 अगस्त 2020 को भूमिपूजन समारोह के बाद मंदिर का निर्माण फिर से शुरू होगा।
  •  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समारोह में भाग लेंगे।
  • हनुमानगढ़ी के 7 किलोमीटर के दायरे में 7000 मंदिरों में दीया जलाकर उत्सव मनाने के लिए कहा गया है।
  • भूमिपूजन समारोह से पहले तीन-दिवसीय वैदिक अनुष्ठान आयोजित किया जाएगा, जो प्रधान मंत्री द्वारा आधारशिला के रूप में 40 किलो चांदी की ईंट की स्थापना के साथ होगा।
  • राम मंदिर के लिए मूल डिजाइन 1988 में अहमदाबाद के सोमपुरा परिवार द्वारा तैयार किया गया था। राम मंदिर का नया डिज़ाइन, मूल डिज़ाइन में कुछ बदलावों के साथ, 2020 में सोमपुरा परिवार(Sompuras) द्वारा तैयार किया गया है।
  • यह मंदिर 235 फीट चौड़ा, 360 फीट लंबा और 161 फीट ऊंचा होगा।
  • राम मंदिर मंदिर के मुख्य वास्तुकार चंद्रकांत सोमपुरा हैं।
  • मंदिर परिसर में एक प्रार्थना कक्ष, "एक रामकथा कुंज, एक वैदिक पाठशाला, एक संत निवास, और एक यति निवास (आगंतुकों के लिए होस्टल)" और संग्रहालय और कैफेटेरिया जैसी अन्य सुविधाएं होगी।
  • पूरा होने के बाद, मंदिर परिसर दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा हिंदू मंदिर होगा।

Ram Mandir Trust Donation Name-राम मंदिर डोनेशन ट्रस्ट: 

5 फरवरी 2020 को, भारत सरकार द्वारा श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट बनाया गया। यह अयोध्या में श्री राम मंदिर के निर्माण और प्रबंधन के लिए स्थापित है। ट्रस्ट का नेतृत्व महंत नृत्यगोपाल दास कर रहे हैं और इसमें 15 ट्रस्टी हैं। श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट, का कहना है कि 10 दिनों से साइट पर चल रहे जमीन को समतल करने में प्राचीन कलाकृतियों प्राप्त हुई है। श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट ने मार्च 2020 में राम मंदिर के निर्माण का पहला चरण शुरू किया था। । निर्माण स्थल की खुदाई के दौरान एक पाँच फुट का शिवलिंग, काले रंग के पत्थर के सात खंभे, लाल बलुआ पत्थर के छह स्तंभ और देवी-देवता की टूटी हुई मूर्तियाँ मिलीं। सरकार ने इसके काम को शुरू करने के लिए ट्रस्ट में  INR 1रु. का पहला योगदान भी दिया है।

                                      

Click Here to Register for Bank Exams 2020 Preparation Material


SBI PO 2020IBPS PO 2020SBI Clerk 2020IBPS Clerk 2020
RBI Grade B 2020RBI Assistant 2020IBPS RRB 2020SEBI Grade A 2020