बैंकिंग अवेयरनेस की 10 बेसिक Terms, जो आपको पता होनी ही चाहिए

बैंकिंग अवेयरनेस की 10 बेसिक Terms, जो आपको पता होनी ही चाहिए


10 Basic Terms of Banking Awareness You Should Know About
बैंक लगभग सभी के जीवन में आर्थिक व्यवस्था का एक हिस्सा होते हैं. अमीर-गरीब, वृद्ध, युवा यानी हर वर्ग के लोग बैंकों से जुड़े हुए हैं. ऐसे में जरुरी हो जाता है कि सभी को बैंक से सम्बंधित बेसिक Term की नॉलेज हो. इसके साथ ही बैंकिंग क्षेत्र में नौकरी करने वाले उम्मीदवारों को भी बैंक से सम्बंधित विभिन्न जानकारी रखनी चाहिए. बैंकिंग क्षेत्र में भर्ती के लिए आयोजित होने वाली सभी परीक्षाओं में सामान्य जागरूकता का भी एक सेक्शन होता हैं,  जिसमें Banking Awareness से सम्बंधित प्रश्न भी पूछे जाते हैं. इसके आलावा बैंकिंग भर्ती में होने वाले इंटरव्यू में भी बैंक के विभिन्न नियम पूछे जा सकते हैं. इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखते हुए हम यहाँ आपके लिए 10 Basic Terms बता रहे है. जिनकी जानकारी एक  सामान्य व्यक्ति से लेकर बैंकिंग परीक्षाओं की तैयारी करने वाले स्टूडेंट्स, सभी को होनी चाहिए.  RRB, IBPS PO & Clerk, BOB PO, RBI Grade B and SBI exams आदि भर्ती की  परीक्षाओं और इंटरव्यू में सफलता प्राप्त करने के लिए बेसिक नॉलेज बहुत जरुरी हैं.

Practice with,

ACCOUNT ( खाता )

एक खाता उन सभी लेनदेन का एक रिकॉर्ड है जो दो लोगों या लेन-देनकर्ताओं के बीच होता है. इस लेनदेन में एक ही व्यवसाय के दो departments में हो सकते हैं.  खाता व्यापार लेनदेन की रिकॉर्डिंग की सभी प्रणालियों में एक  basic element के रूप में कार्य करता है. पर जब खुदरा व्यापार (retail trading) की बात आती है, तो एक खाता क्रेडिट सुविधा refer  करता है, जो स्वचालित रूप से एक ग्राहक को दिया जाता है जिसके साथ खाता जुड़ा हुआ है और संचालित होता है.

सामान्य शब्दों में, एक खाता उन सभी लेनदेन का एक systematic representation है, जो एक व्यक्ति करता है. यह उनकी बचत के साथ-साथ उन सभी पैसों को दिखाता है जो उन्होंने डेबिट या क्रेडिट किए होंगे.


ASSET (परिसंपत्ति)

 यह आर्थिक मूल्य के साथ एक संसाधन है, जिस पर व्यक्ति, संगठन या निगम का नियंत्रण होता है. यह अपने मालिक को भविष्य के लाभ देगा. यह कुछ ऐसा है जो न केवल नकदी प्रवाह उत्पन्न कर सकता है, बल्कि अन्य चीजों के अलावा खर्चों को कम कर सकता है या बिक्री में सुधार कर सकता है. एसेट्स मुख्य रूप से पाँच प्रकार के होते हैं, जैसे करंट एसेट्स (जिसमें नकदी, स्टॉक और बुक ऋण शामिल होते हैं), फिक्स्ड एसेट्स (जिसमें भवन, संयंत्र, मशीनरी, भूमि, आदि शामिल हैं)। अमूर्त आस्तियां हैं (जिनमें कोई भौतिक उपस्थिति नहीं है, जैसे पेटेंट, कॉपीराइट, सद्भावना और ट्रेडमार्क), मूर्त संपत्ति (जैसे नकदी, स्टॉक, बॉन्ड, संपत्ति, उपकरण, आदि) और वित्तीय परिसंपत्तियां (जिसमें बांड, स्टॉक शामिल हैं) , नकद, और अन्य)।

AUTOMATED TELLER MACHINES (ATM)

ATMs के रूप में भी जाना जाता है, Automated Teller Machines उन इलेक्ट्रॉनिक मशीनों को refer करती हैं जो विभिन्न बैंकों द्वारा स्थापित की जाती हैं और खाता धारकों द्वारा नकद जमा  करने या नकद निकलने की सुविधा देती हैं. Disbursement या cash deposit की प्रक्रिया बिना किसी मानवीय हस्तक्षेप के की जाती है. ये मशीनें लगभग हर जगह लगी होती हैं, विशेष रूप से उच्च आर्थिक गतिविधियों के स्थानों में, जैसे मॉल, अस्पताल, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, बाजार, आदि में उपलब्ध होते हैं.


BALANCE SHEET (वित्तीय स्थिति विवरण)

बैलेंस शीट एक वित्तीय विवरण है जो किसी कंपनी या संगठन की संपत्ति, देनदारियों के साथ-साथ शेयरधारकों की equity को एक निश्चित अवधि के लिए रिपोर्ट करता है. इसके अतिरिक्त, यह हर उस वस्तु के सेट मूल्य को दर्शाता है जो कंपनी के लिए एक परिसंपत्ति है. साधारण शब्दों में, एक बैलेंस शीट को कंपनी के net worth या financial position के विवरण के रूप में समझा जा सकता है.


BANK CREDIT (बैंक से लिया गया ऋण या क्रेडिट)

बैंक क्रेडिट, धन की वह राशि है जो एक व्यवसाय या व्यक्ति बैंक से उधार लेता है या ले सकता है. इसमें बंधक, क्रेडिट कार्ड खातों के साथ-साथ ओवरड्राफ्ट लाइनों जैसी चीजें शामिल हैं. बैंक ऋण पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करता है कि क्या किसी प्रकार का collateral involved है, अन्य बैंक क्या पेशकश कर रहे हैं, साथ ही साथ borrower की creditworthiness पर भी निर्भर करता है.


BANK DEPOSIT (बैंक में जमा राशि)

Bank deposit का आशय एक खाते में धन जमा करने से है. यह मुख्य रूप से दो प्रकार का होता है, अर्थात् डिमांड डिपॉजिट और टाइम डिपॉजिट. Bank deposits किसी व्यक्ति के पैसे की सुरक्षा के लिए किए जाते हैं


BOUNCED CHEQUE (बाउंस चेक)

बाउंस किया गया चेक एक चेक होता है जिसे बैंक payee को देने से इंकार कर देता है. बाउंस चेक की स्थिति आमतौर पर तब होती है जब signature mismatch या अन्य वैध कारणों के अलावा भुगतानकर्ता के खाते में अपर्याप्त धनराशि होती है 


BANKRUPTCY (दिवालियापन )

दिवालियापन एक कानूनी प्रक्रिया है जिसमें डिफॉल्टर की संपत्ति, जिसे एक दिवालिया देनदार के रूप में भी जाना जाता है, को लाभ पहुँचाने के लिए उपयोग किया जाया है. इस कानून के माध्यम से ऋण लेने वाला ऋणों से राहत की अपेक्षा करता है जब वह ऋण नहीं चूका  सकता हैं. debtor initiates कार्यवाही शुरू होने के बाद दिवालियापन अक्सर अदालत के आदेश द्वारा लगाया जाता है


BILL ( बिल)

यह एक तरह का  ऑनलाइन बिल है. जिसके माध्यम से बैंक short-term ऋण सुविधा का  प्रयोग करने वाले लेनदारों को specified date तक भुगतान के लिए कहता है.


DEBIT CARD and CREDIT CARD (डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड )

डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड अलग-अलग काम करते हैं और भुगतान करने के लिए दो अलग-अलग साधन हैं. कार्ड प्लास्टिक का बना होता है और इसमें एक इलेक्ट्रॉनिक चिप लगा होता है. डेबिट कार्ड का उपयोग पैसे निकालने या अपने बैंक खाते से भुगतान करने के लिए किया जाता है, जबकि क्रेडिट कार्ड उपयोगकर्ता को बैंक से क्रेडिट लेने की अनुमति देता है.



Also Read,