IBPS SO प्रीलिम्स 2019 के लिए रीजनिंग में कैसे करें स्कोर

IBPS SO प्रीलिम्स 2019 के लिए रीजनिंग में कैसे करें स्कोर



IBPS SO प्रीलिम्स परीक्षा नजदीक आ रही है जो दिसम्बर के अंतिम सप्ताह में आयोजित होने वाली है, IBPS SO कुल 1163+ पदों के लिए, विशेषज्ञ अधिकारी की भर्ती के लिए अपनी आधिकारिक अधिसूचना जारी करता है। आईबीपीएस एसओ प्रारंभिक परीक्षा (स्केल-1) के लिए दो पैटर्न हैं। इस परीक्षा में अनुभागीय कट-ऑफ है और उम्मीदवारों को आईबीपीएस एसओ 2019 प्रीलिम्स में सफलता प्राप्त करने के लिए सभी अनुभागों में अच्छा प्रदर्शन करना होगा।  हम यहाँ तार्किक क्षमता में उम्मीदवारों की मदद करने के  लिए उपस्थित हुए है.
IBPS SO प्रीलिम्स परीक्षा नजदीक आ रही है. ऐसे में महत्वपूर्ण विषयों पर ध्यान देना बहुत आवश्यक है.  रीजनिंग किसी भी बैंकिंग परीक्षा का महत्वपूर्ण भाग होता हैं जिसमें सबसे मुख्य टॉपिक पज़ल्स हैं. जो लगभग 60-70% अंकों का पूछा जाता है. 
यहाँ हम कुछ टिप्स देने जा रहे हैं जिनके माध्यम से आप इसमें आसानी से सफलता प्राप् कर सकते हैं. रीजनिंग से 50 अंकों के 50 प्रश्न पूछे जायेंगे, जिनके लिए कुल 40 मिनट की समयसीमा निर्धारित की गई है.

Subject (Exam Stage) Maximum questions Maximum marks Time allotted
Reasoning (IBPS SO Prelims) 50 50 40 Minutes

दिए गए समय में रीजनिंग सेक्शन को कैसे पूरा करें?
  • बेहतर प्रदर्शन के लिए सभी प्रश्नों का प्रयास करने का लक्ष्य कभी न रखें। इससे आपकी सटीकता(एक्यूरेसी) कम हो जाएगी, जिसके आपको नकारात्मक परिणाम देखने को मिल सकते हैं। आपको बैंक परीक्षा के लिए रीज़निंग की बेस्ट बुक से अभ्यास करना चाहिए।
  • सबसे पहले आसान प्रश्नों से अभ्यास शुरू करें। प्रश्न को पढ़ने और उसे समझने की आपकी क्षमता कुशल होनी चाहिए। आपको पता होना चाहिए कि शुरुआत में किस प्रश्न को हल करना है और किसको बाद के लिए छोड़ना है।
  • आसान सवाल पहले हल करें। लेकिन उन पर आवश्यकता से अधिक समय बर्बाद न करें। 
  • घबराहट महसूस न करें। शांत मन के साथ आत्मविश्वासी मन से परीक्षा में बैठें। 
  • समय के अनुसार अभ्यास करें। बैंकिंग परीक्षा के लिए रीजनिंग प्रश्नों का अभ्यास करते समय हमेशा समय और गति पर ध्यान दें।
  • पलक झपकते ही प्रश्नों को हल करने के लिए रीज़निंग ट्रिक्स की मदद लें और उन पर पकड़ बनायें। इससे आपको अपना समय बचाने में मदद मिलेगी।
  • सेक्शन-वाइज टेस्ट लें। रीज़निंग टेस्ट लेने से आपको अपने प्रदर्शन और अपने कमजोर बिंदुओं पर काम करने का मौका मिलेगा।

रीजनिंग प्रश्नों की जांच के लिए यहां क्लिक करें

IBPS SO में रीजनिंग सेक्शन के लिए महत्वपूर्ण विषय

पज़ल्स और बैठक व्यवस्था: यह टॉपिक रीजनिंग का सबसे महत्वपूर्ण भाग है। परीक्षा में 3-4 पज़ल्स (लगभग) हो सकती हैं। पज़ल्स और बैठने की व्यवस्था के सवाल (रैखिक, परिपत्र, त्रिकोणीय, आयताकार और कभी-कभी हेक्सागोनल सम भी) फ़्लोरर्स, टेबुलर फॉर्म, रक्त संबंध, आदि पर आधारित होते हैं, जिसमें विभिन्न चर में पूछे जाते हैं जो प्रश्न के कठिनाई स्तर के आधार पर भिन्न हो सकते हैं।

न्याय : यदि आपको इस विषय के बारे में अच्छी जानकारी है, तो अच्छे अंक लाना आपके लिए आसान होगा। आमतौर पर परीक्षा में Few, a few, only और some  पर आधारित प्रश्न पूछे जाते हैं। अगर आप अच्छी तैयारी कर चुके हैं तो आप आसानी से 5 अंक हासिल कर सकते हैं।


डेटा पर्याप्तता : डेटा पर्याप्तता पर आधारित प्रश्नों में पूछे गए प्रश्नों के कठिनाई स्तर के आधार पर 2 या 3 कथन हो सकते हैं। आमतौर पर इस विषय पर प्रश्न इतने आसान नहीं होते हैं। लेकिन अभ्यास आपको अच्छा स्कोर करने में मदद कर सकता है।

कोडिंग-डिकोडिंग:
परीक्षक परीक्षा में पुराने और साथ ही नए पैटर्न पर आधारित प्रश्न पूछ सकता है। यह टॉपिक आसान स्तर में आता है। सभी प्रकार के प्रश्नों का अभ्यास करने के लिए आप Adda247 ऐप पर रीज़निंग सेक्शन के टेस्ट दे सकते हैं।

मशीन इनपुट-आउटपुट: बैंकिंग परीक्षा के हालिया पैटर्न के अनुसार मशीन इनपुट और आउटपुट कवर करना अनिवार्य हो गया है। आजकल की बैंकिंग परीक्षाओं के पैटर्न के अनुसार इस पर अधारित लगभग 5  प्रश्न पूछे जा सकते हैं।

दिशा निर्देश : विभिन्न प्रकार के प्रश्नों से अभ्यास करें। आप Adda247 या bankersadda पर भी आप अभ्यास कर सकते हैं। इसके 5-8 प्रश्न परीक्षा में हो सकते हैं। इसलिए अच्छी तरह से अभ्यास करें कि सभी प्रकार के प्रश्नों से आप निपट सकें।

रक्त संबंध : इस खंड के प्रश्न आकांक्षी की संज्ञानात्मक क्षमता का परीक्षण करते हैं। परीक्षा में जो प्रश्न पूछे जाते हैं, वे बहुत जटिल होते हैं, लेकिन अगर आपका बेस क्लियर है तो आप आसानी से हल कर सकते है। प्रश्न विभिन्न रूपों में पूछे जा सकते हैं, अर्थात् पज़ल्स, मिश्रित-रक्त संबंध, कोडित रक्त संबंध, आदि।

लॉजिकल रीजनिंग: लॉजिकल रीजनिंग पर अपेक्षित प्रश्नों की संख्या 5-6 है। इस टॉपिक के अंतर्गत पुच्छे जाने वाले प्रश्न कारण और प्रभाव, कार्यवाही(a course of action), मान्यताओं और निष्कर्षों, तर्क, निष्कर्ष आदि पर आधारित होते हैं। जितना कर सकते हैं उतना रीज़निंग का अभ्यास बिना कापी-पेन के वर्बल करें। इन प्रश्नों का स्तर हमेशा रहता है, ताकि आप उन पर अधिक समय बर्बाद किए बिना आसानी से प्रश्नों का प्रयास कर सकें। वर्बल रीज़निंग का अभ्यास करेक आप आसानी से IBPS SO प्रीलिम्स परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त कर सकते हैं।

रीजनिंग क्लासेज

एसओ परीक्षा के लिए रीजनिंग सेक्शन के लिए बेस्ट बुक

Adda247 सभी उम्मीदवारों को बेस्ट स्टडी मटेरियल उपलब्ध करने का प्रयास करता है. हमारा प्रयास रहता है कि हम उम्मीदवारों की हर संभव मदद कर सकें. IBPS SO परीक्षा के लिए बेस्ट बुक प्राप्त करने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें-  

IBPS SO के लिए रीज़निंग बुक्स यहाँ देखें


तार्किक क्षमता में अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए ट्रिक्स  

  • तार्किक क्षमता में सबसे ज्यादा अंकों के पज़ल्स और बैठक व्यवस्था के प्रश्न पूछे जाते हैं, इसलिए इनमें अपनी पकड़ बनाये और इनका अभ्यास प्रतिदिन करें। 
  • रक्त सम्बन्ध और दिशा निर्देश के प्रश्न भी लगभग पज़ल्स की तरह ही होते हैं, इसलिए इन्हें भी अच्छे से समझे, अनदेखा न करें।
  • एक पजल को हल करने के कई तरीके हो सकते हैं, इसलिए कोशिश करें की हर तरह से अभ्यास करें, जिससे ज्यादा से ज्यादा आपकी पकड़ मजबूत हो।
  • पज़ल्स के प्रश्नों के महत्वपूर्ण बिन्दुओं को उसे पढ़ते समय, अलग से लिखते जाएँ।
  • अगर आपको लगता है कि आप पज़ल्स के प्रश्न आसानी से हल कर सकतें हैं, तो सबसे पहले परीक्षा में पज़ल्स के प्रश्न ही हल करें। क्योंकि यह आपको 5 अंक देकर जायेगा।
  • अगर अन्य किसी टॉपिक को ज्यादा अच्छे से हल कर सकते हैं तो सबसे पहले उन्हें हल करें और अंत में उन टॉपिक को बाद  में उठायें, जिनमें आपकी पकड़ मजबूत नहीं।
  • किसी एक प्रश्न में अधिक समय बर्बाद न करें, अगर प्रश्न हल नहीं हो रहा तो उसे छोड़ कर आगे बढ़ जाएँ।