IBPS PO मेंस 2019 : महत्वपूर्ण बिंदु

IBPS PO मेंस 2019 : महत्वपूर्ण बिंदु



IBPS PO मेन्स परीक्षा अब समाप्त हो गई है। परीक्षा का स्तर बहुत कठिन और लंबा था। प्रत्येक वर्ष आईबीपीएस ने कठिनाई का स्तर बढ़ा रहा है और प्रत्येक अनुभाग में कुछ बदलावों के साथ प्रश्नों को घुमाकर दिया जाता है जो उम्मीदवारों को उलझन में डाल देते हैं। उम्मीदवारों ने IBPS PO मेन्स परीक्षा में दिए गए समय में लगभग 63-66 प्रश्न (समग्र) का प्रयास किया है। जटिल प्रश्नों के कारण, छात्रों को परीक्षा शुरू करने में में थोड़ा भ्रम था। आईबीपीएस पीओ मेन्स परीक्षा में पूछे गए अनुभागों का क्रम निम्नानुसार था:

Reasoning->General Awareness->English Language->Quantitative Aptitude

प्रत्येक अनुभाग और समग्र के अच्छे प्रयासों पर एक नज़र डालें


Section Good Attempts (in ques)
Data Analysis & Interpretation 6 – 8
Reasoning & Computer Aptitude 9 – 13
General Awareness 19-23
English Language 12-15
Total 63 – 66

IBPS PO मेंस 2019 : विस्तृत विश्लेषण और समीक्षा, 30 नवम्बर 2019

इस वर्ष आईबीपीएस पीओ मेन्स परीक्षा के स्तर को देखते हुए, हम अनुमान लगा सकते हैं कि छात्रों को अप्रत्याशित परिवर्तनों का सामना करने और निपटने के लिए अतिरिक्त स्मार्ट होना होगा। IBPS सबसे प्रतिष्ठित परीक्षा में से एक है। जो लोग IBPS PO मेन्स में क्वालिफाई करेंगे, उन्हें इंटरव्यू राउंड के लिए बुलाया जाएगा। आज की आईबीपीएस पीओ मेन्स परीक्षा से, यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि  उच्च स्तर की कठिनाई और लंबी परीक्षा के कारण कट ऑफ पिछले वर्ष (अपेक्षित) की तुलना में कम होने का अनुमान है।


IBPS PO मेंस अंग्रेजी भाषा : महत्वपूर्ण बिंदु 
अंग्रेजी भाषा >कठिन 
योग्य / अच्छे प्रयासों की संख्या->19-23
अंग्रेजी अनुभाग में बड़े बदलावों देखे गए। यद्यपि पूछे गए प्रश्न परिचित विषयों पर आधारित थे लेकिन घुमावदार प्रश्नों की वजह से उनका उत्तर देना कठिन था। यह अनुभाग कठिन तह। रीडिंग कॉम्प्रिहेंशन के तीन सेट थे और प्रत्येक में 3-4 प्रश्न शामिल थे लेकिन RC पर आधारित प्रश्न सीरीज  में नहीं थे। उनसे बेतरतीब ढंग से पूछा गया।

For Example: After a questions of RC-1, suddenly question based on RC-2 was there.
Sentence Rearrangement questions were not from the conventional pattern. Here 4 sentences were given in jumbled form where student’s had to arrange each of the sentence first to form a meaningful sentence. New pattern based questions on Cloze test were asked. There were also questions on inference based testing comprehension skill. Error detection carries the weightage of 5 marks in the exam.


IBPS PO मेंस संख्यात्मक अभियोग्यता : महत्वपूर्ण बिंदु 
मात्रात्मक योग्यता अनुभाग-> कठिन
योग्य / अच्छे प्रयासों की संख्या->6-8
यह खंड कठिन और लंबा था। पूरा खंड डेटा इंटरप्रिटेशन और विश्लेषण पर आधारित था। इसके आधार पर लगभग 25 प्रश्न थे और प्रत्येक प्रश्न 2 अंक का था। DI पर आधारित कुछ और प्रश्न थे जो कि आसान और उल्लेखनीय थे लेकिन उन्हें अनुभाग के अंतिम भाग में दिया गया था। परीक्षा में अंकगणित का कोई प्रश्न नहीं देखा गया। नंबर श्रृंखला से केवल एक प्रश्न पूछा गया था।

जिन उम्मीदवारों ने सभी प्रश्नों को देखा है, उन्होंने अंतिम में दिए गए प्रश्नों को हल किया हो सकता है, लेकिन जो लोग शुरू में दिए गए प्रश्नों के साथ फंस गए हैं, वे बाकी का प्रयास करने से चूक गए होंगे।

IBPS PO मेंस रीजनिंग और कंप्यूटर ज्ञान : महत्वपूर्ण बिंदु

रीज़निंग और कंप्यूटर एप्टीट्यूड-> कठिन
योग्य / अच्छे प्रयासों की संख्या-> 9-13

यह खंड बहुत कठिन और लंबा था। उम्मीदवारों को यह पता लगाने का समय नहीं मिल पाता है कि उन्हें कौन से प्रश्नों का प्रयास करना चाहिए और कौन सा छोड़ना चाहिए। पज़ल्स और बैठने की व्यवस्था के 5 सेट थे जिन्हें पहचानना और हल करना मुश्किल था। कंप्यूटर पर कोई प्रश्न नहीं पूछा गया था। लॉजिकल रीजनिंग के लगभग 5 प्रश्न थे जो स्टेटमेंट और अनुमान पर आधारित थे।

मशीन इनपुट और आउटपुट के 2 सेट थे जो रक्त संबंध और दिशा निर्देश, कोडिंग और डिकोडिंग प्रारूप पर आधारित थे। यह आज के परीक्षा में IBPS द्वारा पेश किए गए प्रमुख बदलाव थे।


IBPS PO मेंस सामान्य जागरूकता : महत्वपूर्ण बिंदु
सामान्य जागरूकता-> कठिन
योग्य / अच्छे प्रयासों की संख्या-> 19-23
रीजनिंग और क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड के साथ तुलना करने पर यह खंड मध्यम स्तर का था। छात्रों ने अपने ज्ञान के आधार पर लगभग 23 प्रश्नों का प्रयास किया। पिछले तीन महीनों का करेंट अफेयर पूछा गया था जिसमें अक्टूबर और नवम्बर महीने पर मुख्या फोकस था। अपनी आगामी परीक्षाओं की तैयारी के लिए, इस खंड में पूछे गए सभी प्रश्नों की जाँच करने के लिए बैंकर्सअड्डा के साथ बने रहें।

आईबीपीएस पीओ मेन्स, वर्णनात्मक लेखन: महत्वपूर्ण बिंदु 
वर्णनात्मक लेखन-> मध्यम
प्रयास किए जाने वाले प्रश्नों की संख्या-> 2 (एक पत्र, एक निबंध)
वर्णनात्मक भाग का स्तर मध्यम था। छात्रों के पास परीक्षण पूरा करने के लिए 30 मिनट का समय था। वर्णनात्मक लेखन में पूछे गए विषय इतने आसान नहीं थे, लेकिन यदि कोई महत्वाकांक्षी पूछे गए विषयों पर ज्ञान रखता है, तो आसानी से लिख सकते  है। इस खंड के लिए अच्छी बात यह थी कि letter और essay लेखन के लिए प्रत्येक में पांच प्रश्न दिए गए थे, जिसमें से केवल एक विषय को छात्रों द्वारा चुना जाना था।


Essay Writing Topics ( Candidates had to choose any 1) – word limit 250 words
  • Ethical Banking
  • Social Media Influencer’s Impact on us
  • Contribution of Unorganised Sector in Indian Economy
  • Pros and Cons of 4 days working in a week
  • FDI in retail sector
Letter Writing Topics ( Candidates had to choose any 1) – word limit 150 words
  • Write a letter to your bank’s branch manager informing him that your EMI installment of Rs. 3000 has been deducted instead of Rs. 2000. Request him to take the necessary action to rollback the transaction or adjust the amount.
  • Write a letter to the Road Transport Authority expressing your concern over usage of high beam LED lights in bikes and cars
  • Write a letter to the editor of a newspaper expressing your concern on the state of elderly living alone by themselves. Request the government to take some initiatives to help the senior citizens living alone.
कुल मिलाकर परीक्षा बहुत कठिन और लंबी थी। हम कह सकते हैं आने वाले समय में प्रतियोगिता और कड़ी होने वाली है। इसलिए आगामी बैंकिंग परीक्षाओं के लिए स्मार्ट तरीके से तैयारी करें और जो कुछ भी आप कर सकते हैं करें और आगे बढ़ें। शुभकामनाएं!