31/07/2017

सफलता पूर्णता, कड़ी मेहनत और विफलताओं से सीखने का परिणाम है.


हम सभी एक उज्जवल भविष्य का सपना देखते हैं. उज्ज्वल भविष्य का सपना देखना अच्छा है, लेकिन यह भी महत्वपूर्ण है कि आप उसे आज या कल में पूरा नहीं कर सकते हैं. महत्वपूर्ण उपलब्धियों को शायद ही कभी पूरा किया जाता है. हम सभी जीवन के एक पहलू या अन्य में प्रतिरोधों का सामना करने के लिए बाध्य हैं, अंतर यह है कि कोई अपनी कमियों को किस प्रकार स्वीकार करता है. अपने सपनों के लिए लड़िए. आप यह अवश्य ही जानते होंगे कि आप जिन्दगी से क्या चाहते हैं. यहाँ ऐसे भी व्यक्ति हैं जो अपने जीवन की समस्त बाधाओं से लड़ते हैं और अपनी हार को अपनी जीत में बदल लेते हैं. ऐसा एक उदाहरण प्रेम गणपति है जिसने अपने जीवन की समस्त बाधाओं को पार किया और अब डोसा प्लाजा का मालिक है, जिसमें वर्तमान में 26 आउटलेट हैं. इसमें 150 कर्मचारी हैं और इसका 5 करोड़ का कारोबार है. 
प्रेम गणपति, बांद्रा स्टेशन पर फंसे हुए थे, जब उनके साथ रहने वाले सभी व्यक्तियों ने उन्हें अकेला छोड़ दिया था. प्रेम का कोई स्थानीय परिचित नहीं था और न ही स्थानीय भाषा का ज्ञान था. सहानुभूतिपूर्वक, एक तमिल साथी उन्हें मंदिर में ले गया और पूजा करने वालों से उनके वापस चेन्नई जाने के टिकट के लिए पैसे देने का अनुरोध किया. प्रेम ने वापस जाने से मना कर दिया और मुंबई में काम करने का फैसला किया. उसने एक रेस्तरां में बर्तन साफ़ करना शुरू कर दिया. उसने अपने मालिक से अपील की कि वह एक वेटर बनना चाहता है, क्योंकि उसने मैट्रिक पूरा किया हुआ था. मालिक ने इनकार कर दिया, प्रेम ने पड़ोस में एक डोसा रेस्तरां खुलने तक अपना समय वही बिताया और उसे एक बर्तन साफ करने से एक चाय वाला बनने का मौका मिला. प्रेम अपने ग्राहकों में अपनी उत्कृष्ट सहायता, बातचीत और संपर्क के कारण काफी प्रशिद्ध हो गया था. वह रोज़ाना 1000रूपये का कारोबार करता था जो कि अन्य चाय वालों की तुलना में तीन गुना था.

इसलिए, एक दिन उसे एक ग्राहक ने एक प्रस्ताव दिया था. वह मुंबई के वाशी में चाय की दुकान शुरू करने की योजना बना रहा था. वह चाहता था कि प्रेम उसके साथ मिलकर 50 - 50 की साझेदारी सहित उस दूकान को खोले, जहां वह पैसे का निवेश करेगा जबकि प्रेम दुकान चलाएगा. दुकान सक्रिय रूप से अच्छा व्यवसाय करना शुरू कर देती है और मालिक लालची बन जाता है. उसने प्रेम के साथ 50% लाभ को साझा करने से मना कर दिया और उसने उसे एक कर्मचारी के साथ बाहर निकाल दिया. उसने अपने चाचा से एक छोटा सा ऋण लिया और अपने भाई के साथ अपनी चाय की दुकान खोली. अफसोस की बात यह है कि, समुदाय ने विरोध किया. फिर वह एक रेढ़ी की शुरुआत करता है. लेकिन वह भी काम नहीं करता. वह एक जगह की खोज करता है और एक साउथ इंडियन स्टॉल खोलता है. वह डोसा और इडली के बारे में कुछ भी नहीं जनता था लेकिन अवलोकन, परीक्षण, और अपनी गलतियों से सीखता है. डोसा स्टाल 1992-1997 के 5 वर्षों के दौरान जबरदस्त हिट पर था और काफी विकसित हुआ. लेकिन मुंबई में प्रचलित सर्वप्रार्थियों से प्रतिस्पर्धा के बावजूद छोटा डोसा स्टाल इतना सफल क्यों था? प्रेम के मुताबिक, यह उसकी स्वच्छता, उचित सफाई, वेटर की उपस्थिति और ताजी सामग्री थी, जो महत्वपूर्ण अंतर के रूप में था. 

उन्होंने दो लाख रुपए बचाए और घर वापस जाने के बजाय उन्होंने एक बड़ा जोखिम उठाया, वाशी स्टेशन के पास एक नई दुकान खोल दी और इसका नाम उन्होंने डोसा प्लाजा रखा है। डोसा प्लाजा के पास उनका चीनी प्लाज़ा बुरी तरह फ्लॉप हो गया और 3 महीनों में बंद हो गया। निडर, प्रेम ने इससे कुछ सबक सीखा। उन्होंने अपने चीनी भोजन बनाने में उन सबक को लागू किया जो वह डोज़ में उपयोग करते थे जिसने बहुत बढ़िया से काम किया। 
वह इसके प्रति और अधिक कार्यशील हो गए और उन्होंने चायनीज़ स्टाइल के विभिन्न डोसा बनाने शुरू किए जैसे: अमेरिकन चोपसी, शेज़वान डोसा, पनीर चिल्ली, स्प्रिंग रोल डोसा आदि। 108 प्रकार के डोसे ने उनको बहुत पब्लिसिटी दी। एक ग्राहक जो कि नई मुंबई में एक मॉल में फूड कोर्ट की स्थापना करने वाली टीम का एक हिस्सा था, ने उसे फूड कोर्ट में स्टाल लेने की सलाह दी। प्रेम अपने व्यवसाय का विस्तार करने के लिए तैयार थे। उनकी अंतर्दृष्टि बेहतर प्रस्तुति और बेहतर ग्राहक सेवा को बढ़ाने की थी। उन्हें फ्रंचायिज़ी के ढ़ेरों ऑफर मिलने लगे और आज पूरे भारत वर्ष में उनके 26 आउटलेट हैं। अब उनकों अमेरिका और यूरोप से भी ऑफर आने लगे हैं। 

तो विद्यार्थियों, हमने उनसे यही सिखा कि हमें कभी अपना आत्मविश्वास नहीं खोना चाहिए और किसी भी हाल में बस मेहनत करते रहना चाहिए। एक मेहनत ही आपको और अधिक परिपक्व बनाती है। असफलताएं जीवन का अंग हैं। अपनी असफलताओं पर अपने ऊपर हावी न होने दें, अभी परीक्षाओं और अवसर आने बाकी हैं। आपको बस यह करने की आवश्यकता है कि  अपने उद्देश्य पर टिके रहे, सफलता केवल तब प्राप्त की जा सकती है जब आप आगे बढ़ना बंद नहीं करते हैं। यदि आप सफल होना चाहते हैं, तो आप को अपने ऊपर दृढ़ता बनाये रखनी होगी तभी आप अपने लक्ष्य को प्राप्त कर पायेंगे, जितना भी आप कर सकते हैं उतना उत्साह के साथ कीजिए। सफलता एक निरंतर यात्रा है जहां आपको अपनी स्थिरता बनाए रखनी होगी। कड़ी मेहनत कीजिए और सफलता महीने के भीतर आपकी छोटी उंगली में स्वयं लिपटी चली जाएगी।

बहुत बहुत शुभकामनाएं!!



CRACK IBPS PO 2017



11000+ (RRB, Clerk, PO) Candidates were selected in IBPS PO 2016 from Career Power Classroom Programs.


9 out of every 10 candidates selected in IBPS PO last year opted for Adda247 Online Test Series.

No comments:

Post a Comment