Tuesday, 30 May 2017

जूडी मैलवेयर


प्रिय पाठकों,
हमारे कंप्यूटर पर 'रैनसमवेयर' मैलवेयर के हालिया हमले के बाद,जुडी एडवेयर के रूप में एक और खतरे ने सभी एंड्रॉइड उपयोगकर्ताओं की परेशानी बढ़ाने के लिए आगे भेजा गया है. यह एक एडवेयर अभियान है जिसने Google Play Store का एक बड़ा हिस्सा संक्रमित किया है. इसने दुनियाभर में लगभग 36 लाख उपयोगकर्ताओं को संक्रमित किया है.जूडी मैलवेयर केवल एक 'ऑटो क्लिकिंग एडवेयर' है और कुछ नहीं.  मूल रूप से इसका अर्थ है कि हैकर्स जूडी के साथ स्मार्टफोन को संक्रमित करने के बाद नकली विज्ञापन क्लिक करके पैसे कमाते हैं. मैलवेयर या स्वत: क्लिक करने वाले एडवेयर अनिवार्य रूप से संक्रमित उपकरणों का उपयोग विज्ञापनों पर नकली क्लिक बनाने के लिए करते हैं और बदले में, जो भी इस साइबर अपराध के पीछे है, उसके लिए यह राजस्व उत्पन्न करता है. कुछ शोध कंपनियों के अनुसार , यह प्रोग्राम अप्रैल 2016 के बाद से ऐप्स में मौजूद है. कुल मिलाकर, दक्षिण कोरिया के 41 ऐप्स को इस एडवेयर से संक्रमित घोषित किया गया है. पिछले मैलवेयर के समान, जो गूगल प्ले में घुसपैठ करते थे, जैसे फाल्सेगाइड और स्किनर, जूडी  अपने  ऑपरेशन के लिए कमांड और कंट्रोल सर्वर (सी एंड सी) के साथ संचार पर निर्भर करता है.

यह एडवेयर विज्ञापनों पर गलत क्लिक बनाता है, जिससे इन कंपनियों के राजस्व में वृद्धि होती है. इस मैलवेयर ने यह दर्शाया है कि चाहे Google Play Store कितना भी सुरक्षित क्यों ना हो लेकिन ये मैलवेयर बिना पकड़े, एक लंबे समय तक इसमें रह सकते हैं. हालांकि Google ने स्पष्ट किया है कि उसने ऐसे किसी भी प्रभावित ऐप को हटा दिया है जिसके जूडी युक्त होने की संभावना है लेकिन आपको इस तरह के किसी भी ऐप को डाउनलोड न करने की सावधानी बरतनी चाहिए.

जुडी मैलवेयर से उपयोगी तथ्य: प्रश्नावली

Q1. अपने मित्र को  एंड्रॉइड डिवाइस पर उसकी ऑनलाइन उपस्थिति और गतिविधि पर अपनी चिंता व्यक्त करते हुए मैलवेयर के प्रकोप के संबंध में एक पत्र लिखें.

Q2. लगभग 150 शब्दों में  एंड्रॉइड डिवाइस को प्रभावित करने वाले दुर्भावनापूर्ण ऐप्स के बारे में आपकी चिंता व्यक्त करते हुए एक निबंध लिखें।

Q3. मेलिशिअस एडवेयर क्या है?
एडवेयर कोई भी सॉफ़्टवेयर एप्लिकेशन है जिसमें प्रोग्राम के चलते समय विज्ञापन बैनर प्रदर्शित होते हैं. एडवेयर की आलोचना इसलिए की गई है क्योंकि इसमें अक्सर कोड शामिल होता है जो उपयोगकर्ताओं की व्यक्तिगत जानकारी और इंटरनेट ब्राउज़िंग आदतों को ट्रैक और अभिलेख देता है. मेलिशिअस एडवेयर या स्पायवेयर को मुफ्त सॉफ्टवेयर, शेयरवेयर प्रोग्राम और इंटरनेट से डाउनलोड किए गए उपयोगिताओं के साथ बंडल किया जा सकता है, या उपयोगकर्ता के संक्रमित वेबसाइट जाने पर चुपके से उपयोगकर्ता के डिवाइस में इंस्टॉल किया जाता है. 

       


You may also like to read:


CRACK IBPS PO 2017



11000+ (RRB, Clerk, PO) Candidates were selected in IBPS PO 2016 from Career Power Classroom Programs.


9 out of every 10 candidates selected in IBPS PO last year opted for Adda247 Online Test Series.

No comments:

Post a Comment