आत्म-मंथन

"चीज़े आसान नहीं होती ये आप हो जो समय के साथ बेहतर बनते जाते हो"




चीज़े आसान नहीं होती ये आप हो जो समय के साथ बेहतर बनते जाते हो 
करत-करत अभ्यास के जड़मति होत सुजा|
रसरी आवत-जात के, सिल पर परत निशान ||

बार-बार नियमित अभ्यास करने से मूर्ख बुद्धि वाला व्यक्ति भी चतुर व समझदार बन सकता है.  जैसे कुएं से निरंतर पानी निकालने से रस्सी आने-जाने वाली जगह पर निशान पड़ जाते हैं. जब एक पत्थर पर निशान पड़ना संभव है तो नियमित अभ्यास से मनुष्य तो पारंगत हो सकता है. 

उसी प्रकार जीवन में कठिनाइयाँ तो आती रहेंगी पर अगर आप उनसे घबराये बिना अपने प्रयास में लगे रहेंगे तो कल को वही कठिनाइयाँ आपको आसान लगने लगेंगी. जीवन में सफलता का एक ही मूल मंत्र है निरंतर अभ्यास. क्योंकि ये अभ्यास ही है जो आपको हर परिस्थिति का सामना करने के लिए सक्षम बनाता है.



तो दोस्तों ध्यान भटकाने वाली हर बात से किनारा करते हुए अपने प्रयास में जुट जाएँ.  
                      
धन्यवाद!!!