Study Notes & Short Tricks: Order and Ranking and Direction

Study Notes & Short Tricks: Order and Ranking and Direction

प्रिय छात्रों, 

https://store.adda247.com/product-testseries/1943/IBPS-Prime-2019-With-Video-Solutions-Online-Test-Series


आज के समय में बैंकिंग से जुडी परीक्षाओं में ही नहीं बल्कि एसएससी जैसी परीक्षाओं में भी यह महत्वपूर्ण हो गया है कि आप निश्चित समस्या को आसानी से हल करें। इसके लिए आपको प्रश्न के पीछे के मन्तव्य को जानना होगा, इसे ध्यान में रखते हुए हम आपके लिए कुछ महत्वपूर्ण स्टडी नोट्स और तार्किक क्षमता से सम्बन्धित शोर्ट ट्रिक्स लेकर आये हैं,  जिससे छात्र कम समय में अधिक प्रश्नों को हल कर सकते हैं (विशेष रूप से बैंकिंग और एसएससी की परीक्षाओं में )| इससे उनके चयन की सम्भावना भी बढ़ जाती है| सभी छात्रों को शुभकामनाएं,  बैंकर्स अड्डा के साथ जुड़े रहें....


Here are the study notes of Reasoning Ability based on Order and Ranking and Direction which will help you to ace your preparation.

अनुक्रम एवं दिशा ज्ञान किसी भी प्रतियोगिता परीक्षा के रीजनिंग खंड का एक महत्वपूर्ण अध्याय है। 
किसी भी परीक्षा में इस अध्याय से सामान्यतः 3 – 5 प्रश्न होते हैं।  अतः, जैसा कि पिछले महीने के अंक में घोषित किया गया था, इस अंक में हम रैंकिंग टेस्ट एवं दिशा ज्ञान की विस्तृत संकल्पना प्रस्तुत कर रहे हैं जो विद्यार्थियों के परीक्षा में उनके अंक बढाने में सहायक होंगे।
  • पहले हम “रैंकिंग टेस्ट” की चर्चा करेंगे.

रैंकिंग टेस्ट: – रैंकिंग टेस्ट में, परीक्षाओं में आने वाले प्रश्न इस प्रकार है


  1. किसी विशेष व्यक्ति का रैंक दायें या बाएं छोर से दिया रहता है प्रश्न में व्यक्तियों की संख्या पूछी जाती है।
  2. कभी-कभी, प्रश्न में कुल व्यक्तियों की संख्या दी हुई होती है और किसी विशेष व्यक्ति का रैंक बाएं छोर से दिया होता है और आपसे उस व्यक्ति का दायें छोर से रैंक पूछा जाता है।
  3. कभी-कभी, प्रश्न में कुल व्यक्तियों की संख्या दी हुई होती है और किसी विशेष व्यक्ति का रैंक दायें छोर से दिया होता है और आपसे उस व्यक्ति का बाएं छोर से रैंक पूछा जाता है।

  • एक आधारभूत सूत्र है जो आपको रैंकिंग के प्रश्नों को हल करने में सहायता करेंगे। .

व्यक्तियों की कुला संख्या = [(बाएं से की विशेष व्यक्ति का रैंक + उस विशेष व्यक्ति का दायें छोर से रैंक)–1]

  • इस अध्याय से सम्बंधित महत्वपूर्ण शब्द है : –
‘बायाँ’ जिसे ‘शीर्ष’ भी कहा जाता है।
‘दायाँ’ जिसे ‘नीचे’ (bottom) भी कहा जाता है
  • अब हम विभिन्न प्रकार के उदाहरण को देखते हैं जो आमतौर पर परीक्षाओं में आते हैं : –

उदाहरण: – किसी परीक्षा में बिक्की का रैंक शीर्ष से दसवां है और नीचे से सातवाँ है। उसकी कक्षा में कितने विद्यार्थी हैं?
हल: – कक्षा में विद्यार्थियों की कुल संख्या
=[(शीर्ष से बिक्की का रैंक + नीचे से बिक्की का रैंक)–1]
= (10 + 7) –1
= 17–1
= 16

उदाहरण-2 : शिप्रा का रैंक शीर्ष से चौथा है और कक्षा में कुल 35 विद्यार्थी हैं। तो नीचे से शिप्रा का रैंक ज्ञात कीजिये।
हल: – जैसा कि ऊपर एक आधारभूत सूत्र की चर्चा की गई है,
विद्यार्थियों की कुल संख्या = [(बायाँ  + दायाँ) – 1]
अतः, नीचे से शिप्रा का रैंक
= 35 – 3 = नीचे से 32वां’

उदाहरण-3 : राहुल लड़कों की एक पंक्ति में बाएं छोर से 15वां है और रोहित, राहुल के बाएं बाएं ओर चौथा है। तो बाएं छोर से रोहित का रैंक ज्ञात कीजिये।   

Solutions: -

राज, राजेश से बड़ा है पियूष से बड़ा नहीं है। महेश, पियूष से बड़ा है लेकिन रोहित जितना बड़ा नहीं है। रोहित, विवेक से छोटा है लेकिन गौरव जितना नहीं है, सभी में सबसे छोटा कौन है?
हल : – दी गई जानकारी में से,
पियूष > राज > राजेश …..(i)
रोहित > महेश > पियूष .....(ii)
विवेक > रोहित > गौरव ….(iii)
 (i) (ii) और (iii) को मिलाने पर हम पाते हैं कि विवेक सब में सबसे बड़ा है।

उदाहरण -5 : – शब्द ‘LABOUR” में ऐसे अक्षरों के कितने युग्म हैं जिनमें से प्रत्येक के बीच शब्द में उतने ही अक्षर हैं जितने कि अंग्रेजी वर्णमाला श्रृंखला में उनके बीच होते हैं। (आगे और पीछे दोनों दिशाओं में)

Solution : – 

अक्षरों की कुल संख्या = 2

  • हम आगे और पीछे दोनों दिशाओं से गणना कर सकते हैं

उदाहरण -6: यदि शब्द ‘ANIKET’ को वर्णमाला क्रम में बाएं से दायें व्यवस्थित किया जाता है तो कितने अक्षर समान स्थिति पर रहेंगे?
Solution: – “शब्द  “ANIKET”
वर्णमाला क्रम में व्यवस्थित करने पर  AEIKNT
अतः, चार वर्ण समान स्थिति पर रहेंगे अर्थात; “A, I, K, T”

उदाहरण -7:  यदि एक पंक्ति के बाएं छोर से A का स्थान 10वां है और B का स्थान दायें छोर से 15वां है और केवल 2 व्यक्ति A और B के मध्य में बैठा है। इस पंक्ति में बैठने वाले न्यूनतम लोगों की संख्या ज्ञात कीजिये।
Solution: – प्रश्न में यदि किसी पंक्ति में व्यक्तियों की संख्या ज्ञात करने के लिए पूछा जाता है तो यह हमेशा एक अतिव्यापन की स्थिति होती है अर्थात; दोनों दिशाओं से व्यक्ति की स्थिति एक दूसरे को ओवरलैप करते हैं। इस प्रकार के प्रश्नों के लिए एक शोर्ट ट्रिक है अर्थात;
व्यक्तियों की न्यूनतम संख्या
= दोनों दिशाओं से व्यक्ति के स्थान का योग – उनके मध्य व्यक्तियों की संख्या–2
अतः, व्यक्तियों की कुल संख्या = 10 + 15 – 2 –2
= 25 – 4
= 21
दिशा परिक्षण: – दिशा परिक्षण को अभ्यर्थी के दिशा ज्ञान की जांच के लिए शामिल किया गया है। यह टेस्ट अंतिम दिशा या दो स्थानों के बीच की दूरी को सुनिश्चित करने के लिए है।
  • दिशा ज्ञान से सम्बंधित प्रश्नों को हल करते समय ध्यान रखने योग्य महत्वपूर्ण बातें  :–


  1. सभी प्रश्नों के लिए हमेशा सन्दर्भ के रूप में दिशा सूचक तल का उपयोग कीजिये
    2. हमेशा प्रारंभिक बिंदु एवं अंतिम बिंदु को अन्य बिन्दुओं से अलग चिन्हित करें।
    3. दायें और /या बाएं मुड़ते समय हमेशा सजग रहें 4. दिशा परीक्षण को हल करते समय, आपको निम्न चित्र को सन्दर्भ के रूप में हमेशा स्मरण रखना चाहिए।


    5. आपको आधारभूत ज्यामीतीय नियम, जैसे कि पाईथागोरस प्रमेय के बारे में जानना चाहिए

AC^2=AB^2+ BC^2
∴AC=√(AB^2+BC^2 )
जहाँ, ∆ABC एक समकोण त्रिभुज है

उदाहरण -1 : अमित अपने घर के पश्चिम की ओर 2 किमी चलता है और  दक्षिण की ओर मुड़कर 4 किमी चलता है। अंत में वह पूर्व की और 3 किमी चलता है और पुनः पश्चिम की ओर 1 किमी चलता है। वह अपने प्रारंभिक बिंदु से कितनी दूरी पर है?
Solution : –
अमित अपने घर A से चलना शुरू करता है, उसके बाद B तक 2 किमी पश्चिम की ओर चलता है, उसके बाद दक्षिण की ओर C बिंदु तक 4 किमी चलता है और D तक 3 किमी चलता है और अंत में बिंदु E तक 1 किमी पश्चिम की और चलता है। अतः उसकी प्रारंभिक स्थिति A से दूरी AE होगी।
और, AE = BC = 4 किमी

उदाहरण -2: रमेश उत्तर की और 10 किमी चलता है। वहां से वह दक्षिण की ओर 6 किमी चलता है। उसके बाद वह पूरब की ओर 3 किमी चलता है। अपने प्रारंभिक बिंदु के सन्दर्भ में वह कितनी दूरी और किस दिशा में है?

Solution: –
 
रमेश A से B तक 10 किमी चलता है। उसके बाद वह 6 किमी दक्षिण की ओर B से C तक जाता है। और C से D तक 3 किमी चलता है।  अतः, प्रारंभिक बिंदु A से उसकी दूरी
AD=√(AC^2+CD^2 )
=√(4^2+3^2 )=5 किमी उत्तर पूर्व दिशा में


  • हल सहित विभिन्न प्रकार के उदहारण द्वारा हमने ‘रैंकिंग एवं दिशा’ की संकल्पना को समझाने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ देने का प्रयास किया है। आशा करते हैं कि आप चीजों को समझ पाए होंगे। हमारे अगले अंक में हम ‘कथन एवं पूर्वधारणा’ पर स्टडी नोट्स देंगे। 
  • अतः, कम्पटीशन पॉवर के साथ जुड़े रहिये......