Blockchain: How does it Work?

Blockchain: How does it Work?


ब्लॉकचैन एक साझा वितरित तकनीक है जिसमें प्रत्येक लेनदेन को इसकी प्रामाणिकता और समग्रता सुनिश्चित करने के लिए डिजिटली हस्ताक्षरित किया जाता है. प्रत्येक लेन-देन डिजिटल रूप से इसकी प्रामाणिकता सुनिश्चित करने के लिए साइंड किया जाता है और इसमें कोई भी हस्तक्षेप नहीं है, इसलिए खाताधारक स्वयं और इसके भीतर मौजूदा लेनदेन को उच्च समग्र रूप में माना जाता है. बिटकॉइन और अन्य क्रिप्टोकरेंसी इन दिनों अधिक प्रचलित हैं, परन्तु विवादास्पद विषय जैसे  कि क्या क्रिप्टोकरेंसी सुरक्षित हैं ? क्या इसे देशों में वैध बनाया जाना चाहिए या प्रतिबंधित किया जाना चाहिए? यदि आप सोच रहे थे कि यह वास्तव में क्या है और यह कैसे काम करता है, तो इस लेख को अवश्य पढ़े, इस लेख में हम आपको ब्लॉकचैन किस प्रकार कार्य करता है, के सन्दर्भ में पूर्ण जानकारी प्रदान करेंगे.

यह आपके लिए महत्वपूर्ण है कि आप अद्यतन रहें और समाचार पत्रों से जानकारी को एकत्र करें और इस तरह से समझें कि कैसे ब्लॉकचैन प्रौद्योगिकी जोकि क्रिप्टोकरेंसी का समर्थन करता है, किस प्रकार कार्य करता है. यदि आपने ब्लॉक चेन की शुरुआत कैसे हुई के बारे में हमारा पिछला लेख नहीं पढ़ा है तो आप यहां क्लिक करके पढ़ सकते है.

ब्लॉकचैनअवधारणा डिजिटल टाइमस्टैम्प पर कार्य करती हैं, जैसे एक नोटरी. इसलिए जब एक बार डॉक्यूमेंट को टाइमस्टैम्प किया जाता है तो इनके साथ छेड़छाड़ करना संभव नहीं होता है. जैसा कि हमने पहले ही चर्चा की है कि ब्लॉकचेन एक डिस्ट्रीब्यूटेड लेज़र है जो कि हर किसी के लिए पूरी तरह से खुला है. इसकी महत्वपूर्ण विशेषता यह है कि, एक बार एक ब्लॉकचैन के अंदर एक डाटा रिकॉर्ड किया जाता है, तो इसे बदलना मुश्किल हो जाता है. तो यह कैसे काम करता है?

प्रत्येक ब्लॉक में कुछ डेटा, ब्लॉक का एक हैश और पिछले ब्लॉक का एक हैश होता है. एक ब्लॉक के अंदर संग्रहित डेटा, ब्लॉकचैन के प्रकार पर निर्भर करता है. उदाहरण के लिए, बिटकॉइन ब्लॉकचैन, लेन-देन-प्रेषक, रिसीवर और कॉइन की संख्या के बारे में जानकारी स्टोर करता है. जैसेकि हमने आपको बताया एक ब्लॉक में हैश भी होता है, जो फिंगरप्रिंट की तरह अद्वितीय है, यह ब्लॉक और इसकी सभी सामग्री की पहचान करता है.

एक बार ब्लॉक बनाया जाता है तो इसकी हैश की भी गणना होती है और ब्लॉक के अंदर कुछ परिवर्तित होता है तो हैश में भी परिवर्तन होता है, इस प्रकार हैश यह पता लगाने की चाबी है कि क्या ब्लॉकचेन में मौजूदा ब्लॉक में कुछ बदलाव किए गए हैं. और यदि अद्वितीय कारक- "हैश" बदलता है तो या समान ब्लॉक नहीं है. अगला सबसे महत्वपूर्ण तत्व पिछले ब्लॉक का हैश है और यह ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी में प्रभावी रूप से ब्लॉकों की श्रृंखला बनाने में मदद करता है.

3 ब्लॉक के ब्लॉकचैन में -तीसरे ब्लॉक में दूसरे ब्लॉक का एक हैश होगा और दूसरा में पहले का हैश होगा को ध्यान में रखते हुए. पहला ब्लॉक विशेष है क्योंकि यहाँ से श्रृंखला शुरू होती है, इसमें कोई भी पिछला हैश नहीं है और इसे Genesis Block कहा जाता है. आइए देखते है कि हमने दूसरे ब्लॉक में छेड़छाड़ की है जिसके परिणामस्वरूप इसके हैश को बदल दिया जाता है और इस प्रकार परिणामस्वरूप, ब्लॉक तीन का निर्माण होता है और सभी निम्न ब्लॉक को अवैध बना दिया जता है क्योंकि इनमे पिछले ब्लॉक के मान्य हैश नहीं है. लेकिन अग्रिम तकनीक और कंप्यूटर द्वारा त्वरित गणना के कारण यह एक कंप्यूटिंग मशीन के लिए संभव है जो नए हैश की गणना करता है जो इस तंत्र में संभव दोष हो सकता है. इस अवरोध से बचने के लिए ब्लॉकचैन में "Proof-of-work" है जो नए ब्लॉकों के निर्माण को धीमा कर देता है. बिटकॉइन में, proof-of-work की गणना करने और एक नया ब्लॉक बनाने में लगभग 10 मिनट लगते हैं.

एक केंद्रीय प्रबंधन प्रणाली के बजाय, ब्लॉकचेन नेटवर्क पीयर-टू पीयर वितरित प्रणाली का उपयोग करता है, इसलिए जब कोई इस नेटवर्क में जुड़ जाता है तो उसे ब्लॉकचैन की एक पूरी कॉपी मिलती है. एक उपयोगकर्ता या सदस्य को नोड के रूप में संदर्भित किया जाता है. जब कोई व्यक्ति एक नया ब्लॉक बनाता है, तो प्रत्येक नोड उस ब्लॉक की एक प्रति प्राप्त करता है, यह सुनिश्चित करने के लिए कि इसके साथ छेड़छाड़ नहीं की गई है और यदि प्रत्येक नोड के जांचने के बाद ब्लॉक, ब्लॉक की अपनी प्रतिलिपि में नया ब्लॉक जोड़ता है. इसी प्रकार इस नेटवर्क में सभी नोड्स (उपयोगकर्ता / सदस्य) अनुकूलता बनाते हैं! यह तकनीक लगातार विकसित हो रही है और आवश्यकताओं के अनुसार नए संस्करण किए जा रहे हैं, ऐसा एक हालिया विकास Smart Contracts का निर्माण है. ये कॉन्ट्रैक्ट ब्लॉकचैन पर संग्रहीत सरल कार्यक्रम हैं और कुछ कॉन्ट्रैक्ट/ कंडीशन के आधार पर स्वचालित रूप से कॉइन का उपयोग करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है.

बिटकॉइन, जिसमे ब्लॉकचैन काम करता है, पहली बार एक इंटरनेट उपयोगकर्ता को अन्य इंटरनेट उपयोगकर्ता को डिजिटल संपत्ति का एक अद्वितीय हिस्सा स्थानांतरित करने का एक तरीका प्रदान करता है, और इसमें स्थानांतरण के सुरक्षित की गारंटी है, हर कोई जानता है कि स्थानांतरण हुआ है, और कोई भी स्थानांतरण की वैधता को चुनौती नहीं दे सकता है. एक बिटकॉइन, बिटकॉइन डिजिटल मुद्रा(बीटीसी) की एक इकाई है, एक डॉलर या रुपया की तरह ही इसका अपना कोई मूल्य नहीं है, इसका मूल्य केवल इसलिए है क्योंकि हम अपने नियंत्रण में अधिक मात्रा में मुद्रा के स्थानान्तरण में वस्तुओं और सेवाओं के व्यापार के लिए सहमत हैं और हमें विश्वास है कि दूसरों भी इसमें विश्वाश करता है.

ब्लॉकचैन प्रौद्योगिकी साइबर सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह डेटा गोपनीयता, उपलब्धता और सुरक्षा के उच्चतम स्तर को सुनिश्चित कर सकता है. हालांकि, प्रौद्योगिकी की जटिलता, विकास और वास्तविक दुनिया के उपयोग के साथ कठिनाइयों का कारण हो सकता है.