“Mehnet tab tak karo jab tak vo khuda ko na dikhne lage.” : Anshul Singh (IBPS RRB PO & Clerk)

“Till the full stop doesn’t come, the sentence is not complete”: Amrendra Kumar (IBPS RRB PO)

नाम- अंशुल सिंह
श्रेणी-सामान्य
उत्तीर्ण किए गए पद- आरआरबी अधिकारी स्केल-1 (प्राथमा बैंक), और आरआरबी कार्यालय सहायक (पूर्वांचल बैंक)
गृहनगर- (उत्तराखंड), पालन-पोषण बरेली में. 
“यू ही नहीं होते सुन्दर गुलफाम शबनम में, आग में खुद को तपाना पड़ता है, मंजिल की ललक तो सबमें होती है, पर उसके काबिल खुद को बनाना पड़ता है"

सबसे पहले, मैं अपने ईश्वर, अपने पति, अपने परिवार, अपने दोस्तों और अपने Bankersadda के लिए आभार व्यक्त करती हूं. मेरे ईश्वर ने मुझे हर परिस्थिति में ताकत प्रदान की है और उसने मुझे कभी हार मानने नहीं दिया. मेरे परिवार ने मुझ पर विश्वास किया और पूरी यात्रा के दौरान मुझे हमेशा समर्थन प्रदान किया. मेरे पिता और मेरे पति दो ऐसे पुरुष हैं जिन्होंने हमेशा मेरे आत्मविश्वास को बढ़ाया है तथा जो इस कठिन यात्रा के सबसे मजबूत भाग हैं. 
यह एक ऐसी कहानी है जो मेरी विफलताओं की कहानियों के बिना अधूरी है. यह एक ऐसी लड़की की कहानी है, जिसने टॉपर के रूप में 2012 में अपनी बी-टेक पूरी की थी और उसने सोचा कि वह आसानी से किसी भी सरकारी परीक्षा को उत्तीर्ण कर लेगी, लेकिन असली दुनिया का सच बहुत कड़वा था. बाहरी दुनिया में बहुत बड़ी प्रतिस्पर्धा थी जो मेरी चार साल कड़ी मेहनत पर उतरने के लिए तैयार थी. मैंने एक वर्ष काम किया, फिर इंजीनियरिंग सेवाओं की तैयारी शुरू कर दी, लेकिन कुछ समय बाद मैंने इसे छोड़ दिया और 2015 में बैंकिंग परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी. एक तकनीकी छात्र के लिए गैर-तकनीकी प्रतियोगी बनना सबसे मुश्किल काम था. यह मेरे लिए बहुत चुनौतीपूर्ण था क्योंकि मुझे अभिक्षमता में दिलचस्पी नहीं थी.
मैंने कई परीक्षाएं दीं और कई साक्षात्कार भी दिए लेकिन अंतिम चयन हो सका. हर बार एक नई बाधा मेरे सामने खड़ी थी. यह एक गहरी निराशा का चरण था और इसके कारण, मैं अपनी पढ़ाई पर भी ध्यान केंद्रित नहीं कर पा रही थी. तैयारी भी बदलती रहती थी कभी मैं टेक की परीक्षा देती... फ़िर बैंक के देती और फिर मेरी जिंदगी में एक मोड़ आया जब मैं 2016 में कंटेंट डेवलपर के रूप में Bankersadda में शामिल हुई. यह मेरे जीवन का सबसे अच्छा हिस्सा था. इस संगठन ने मुझे बहुत कुछ सिखाया. मुझे बैंकिंग परीक्षा के सटीक स्वरूप को जानने का मौका मिला और मैंने अत्यधिक सकारात्मक और प्रेरक वातावरण में काम किया.
"जब रास्ते मुस्किल हो जाते हैं...तो मंजिल को पाने की जिद ओर बढ़ जाती हैं" ...मुझे रोजाना सुबह और शाम गुड़गांव से दिल्ली तक 2 घंटे आना जाना पड़ता था, दिल्ली मेट्रो मेरी तैयारी की यात्रा में मेरी सबसे अच्छी दोस्त शाबित हुई. मैंने अपनी सामान्य ज्ञान की पूर्ण तैयारी मेट्रो में की है. ऑटो के टाइम में क्वांट की सारी तालिकाएँ, शोर्टकट, सूत्रों को दोहराना आदि करती थी. ऑफिस का लंच टाइम क्वांट के विविध प्रश्नों के लिए समर्पित था. ऐसे कोई भी दिन नहीं था जब मैंने " द हिंदू" पढ़े बिना जाने दिया हो. एक विवाहित महिला के रूप में, मुझ पर कई सारी परिवारिक ज़िम्मेदारियाँ थीं, लेकिन मेरे पति और ससुराल ने मुझे बहुत समर्थन दिया और मैं पढने के लिए घर पर केवल एक घंटा या उससे थोड़ा अधिक चुरा लेती थी, जिसमें मैं Adda247 ऑनलाइन टेस्ट सीरीज़ ही पढ़ती थी. कई लोगों ने मुझसे कहा कि सरकारी नौकरी मेरे भाग्य में नहीं है, लेकिन मेरा मानना है कि "भाग्य हम अपना ख़ुद बनाते हैं" और सफलता का मुख्य मार्ग निरंतर प्रयास करना है. "मेहनत तब तक करो जब तक वो खुदा को ना दिखने लगे.

जब मैंने 1 फरवरी को अपना परिणाम देखा, तो असफलताओं की श्रृंखला के बाद यह वास्तव में एक सपना सच होने के समान था, लेकिन जो मैं च्चती हूँ यह तो उसके लिए सिर्फ एक मंच है. अभी तो बहुत इरादे बाकि हैं मेरे, बहुत सपने सजाने बाकि हैं. मैं आप सभी को बताना चाहता हूं कि कभी ना रुकें. इससे कोई फर्क नहीं पड़ता की आप काम करते हैं या नहीं, आप शादीशुदा हैं या नहीं, यदि आपके पास उचित मार्गदर्शन है या नहीं, आप इस दुनिया में कुछ भी हासिल कर सकते हैं यदि आप चाहते हैं. कोई भी परिस्थिति आपके लक्ष्य से बड़ी नहीं हो सकती. बहुत बाधाएं आएँगी, आपको रोकने वाले भी आएँगे लेकिन आपको जीत हासिल करनी है. 

“बोलने वाले बोलेंगे, सुनाने वाले सुनेंगे. अपने परिणाम के स्क्रीनशॉट से ही मार दो उनको जिन्होंने तेरे मार्ग में कांटे बिछाये हैं.”

वे परीक्षाएं जिनमें कम अन्तराल पर असफलता हासिल हुई-

MAHATRANSCO & MAHAGENCO – साक्षात्कार दिया लेकिन मराठी भाषा प्रमाण पत्र के कारण अंतिम चयन नहीं हो सका.
SBI CLERK 2016- 7 अंकों से अंतिम चयन चूका
IBPS RRB PO V 2016- साक्षात्कार दिया लेकिन अंतिम योग्यता सूची में 1 अंक के कारण चयन नहीं हुआ.
IBPS RRB CLERK V 2016- मुख्य परीक्षा दी लेकिन 5 अंकों के कारण चयन नहीं हुआ.
BOB PGDBF 2017-साक्षात्कार दिया लेकिन अंतिम चयन नहीं हुआ 
RBI ASSISTANT 2017- मुख्य परीक्षा दी 
IBPS RRB PO VI 2017- प्राथमा बैंक में चयनित (अंतिम योग्यता सूची में 100 में से 54.38)
IBPS RRB CLERK VI 2017- पूर्वांचल बैंक में चयन
IBPS PO VII 2017-साक्षात्कार दिया और अंतिम परिणाम का इंतजार है
IBPS CLERK VII 2017- मुख्य परीक्षा दी और अंतिम परिणाम का इंतजार है
SSC CGL TIER 1 2017- उत्तीर्ण

अंत में, मैं Bankersadda की पूरी टीम- सौरभ बंसल सर, अनिल नागर सर, गोपाल सर, सौरभ त्रिपाठी सर, अनिकेत सर, नीरज सर, अभिषेक सर और मेरी पूरी रीजनिंग कंटेंट टीम का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं. Adda247 सरकारी परीक्षा की तैयारी के क्षेत्र में एक शानदार कार्य कर रहा है और Adda247 टेस्ट सीरीज का मेरी यात्रा में एक महत्वपूर्ण योगदान रहा. 

मैं अपनी इन पंक्तियों से अपनी कहानी का समापन करना चाहती हूं-

“काँटों पे चलकर मुस्कुराना है ज़िन्दगी,
तूफ़ान में बहकर साहिल को पाना है ज़िन्दगी,
ओरों के लिए ये जीना ओर मर जाना हो,
पर हमारे लिए कुछ कर दिखाना है ज़िन्दगी”

यहाँ भी देखें: