Thursday, 25 May 2017

Banking Awareness Study Notes (DICGC) for Bank Exams

प्रिय पाठको,
banking-awareness-study-notes-for-bank-exams

 SBI PO, Dena Bank PO, NICL AO और Bank of India, सभी परीक्षाओ में समान्य जागरूकता का भाग होता है और इस भाग में अधिकतर बैंकिंग जागरूकता के प्रश्न पूछे जाते है. इस भाग में आज हम  जमा बीमा और क्रेडिट गारंटी निगम (डीआईसीजीसी); से सम्बंधित नियमो की चर्चा करेंगे. यह आगामी बैंकिंग और बीमा क्षेत्र की परीक्षाओ में आपकी सहायता करेंगे.

डीआईसीजीसी का इतिहास
बंगाल में बैंकिंग संकट के बाद वर्ष 1948 में पहली बार बैंकों के साथ जमा होने वाली जमा राशि की अवधारणा को ध्यान में रखा गया. यह  प्रश्न 1949 में पुनर्विचार के लिए आया था,लेकिन रिजर्व बैंक ने बैंकों के निरीक्षण के लिए पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित होने तक इस पर रोक लगायी. इसके बाद, 1 9 50 में, ग्रामीण बैंकिंग जांच समिति ने भी इस अवधारणा का समर्थन किया. हालाँकि, भारतीय रिजर्व बैंक और केंद्र सरकार ने पलाई सेंट्रल बैंक लिमिटेड और 1960 में लक्ष्मी बैंक लिमिटेड के पतन के बाद इस अवधारणा पर गंभीरता से विचार किया. जमा बीमा निगम (डीआईसी) विधेयक 21 अगस्त, 1 9 61 को संसद में पेश किया गया थासंसद द्वारा इसे पारित करने के बाद, विधेयक को  07 दिसंबर 1961 को राष्ट्रपति की स्वीकृति मिली और 1 जनवरी 1 9 62 को जमा बीमा अधिनियम, 1961 लागू हुआ. जमा बीमा योजना को प्रारंभिक रूप से वाणिज्यिक बैंकों के कामकाज में बढ़ाया गया था. इसमें भारतीय स्टेट बैंक और इसके सहायक, अन्य वाणिज्यिक बैंक और भारत में कार्यरत विदेशी बैंकों की शाखाएं शामिल हैं.

भारतीय रिजर्व बैंक ने 14 जनवरी 1 9 71 को एक सार्वजनिक लिमिटेड कंपनी को भी क्रेडिट गारेंटी कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (सीजीसीआई) को प्रोत्साहित किया. क्रेडिट गारंटी योजनाओं का मुख्य कार्य, क्रेडिट गारंटी कार्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड द्वारा शुरू किया गया, इसका उद्देश्य वाणिज्यिक बैंकों को अब तक उपेक्षित क्षेत्रों की ऋण आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए प्रोत्साहित करना था, खासकर गैर-औद्योगिक गतिविधियों में लगे समाज के कमजोर वर्ग, प्राथमिक क्षेत्र के तहत कवर किए गए छोटे और जरूरतमंद उधारकर्ताओं को ऋण संस्थानों द्वारा दी गई ऋण और अग्रिमों के लिए गारंटी कवर प्रदान करके. 

जमा बीमा और क्रेडिट गारंटी के कार्यों को एकीकृत करने के लिए, उपरोक्त दो संगठन (डीआईसी और सीजीसीआई) को विलय कर दिया गया और वर्तमान जमा बीमा और क्रेडिट गारंटी निगम (डीआईसीजीसी) 15 जुलाई, 1 9 78 को अस्तित्व में आया. नतीजतन, जमा बीमा अधिनियम, 1 9 61 का शीर्षक बदलकर 'जमा बीमा और क्रेडिट गारंटी निगम अधिनियम, 1 9 61' में बदल दिया गया था.


डीआईसीजीसी का उद्देश्य:

डीआईसीजीसी के कार्यों को 'द डिपाजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कार्पोरेशन एक्ट, 1 9 61' (डीआईसीजीसी एक्ट) और 'द डिपाजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन जनरल रेगुलेशन, 1 9 61' के प्रावधान के अंतर्गत भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा अभ्यास के लिए तैयार किया गया है उक्त अधिनियम की धारा 50 की उप-धारा (3) द्वारा शक्तियों प्रदान करता है. 

डीआईसीजीसी का प्रबंधन:

निगम की अधिकृत पूंजी 50 करोड़ है, जो पूरी तरह भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) द्वारा जारी है और अभिदा है. निगम के प्रबंधन में निदेशक मंडल निहित है, जिसमें आरबीआई के डिप्टी-गवर्नर, अध्यक्ष होते है. निगम का मुख्यालय मुंबई में है. कार्यकारी निदेशक अपने दिन-प्रतिदिन के कार्यों के समग्र प्रभार में स्थित हैं. इसमें चार विभाग हैं, अर्थात्  लेखा, जमा बीमा, क्रेडिट गारंटी और प्रशासन, जोकि अन्य वरिष्ठ अधिकारियों की देखरेख में है . 

जमा बीमा योजना द्वारा कवर किए गए बैंक

(I) सभी वाणिज्यिक बैंक जिनमें भारत में विदेशी बैंकों की शाखाएं, लोकल एरिया बैंक और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक शामिल हैं.

(II)सहकारी बैंक - डीआईसीजीसी अधिनियम की धारा 2 (जीजी) में परिभाषित सभी पात्र सहकारी बैंकों को जमा बीमा योजना द्वारा कवर किया गया है. राज्यों/ संघ राज्य क्षेत्रों में कार्यरत सभी राज्य, केन्द्रीय और प्राथमिक सहकारी बैंक, जिन्होंने डीआईसीजीसी अधिनियम, 1 9 61 के तहत उनके सहकारी सोसायटी अधिनियम में संशोधन किया है,संबंधित राज्यों / संघ शासित प्रदेशों के सहकारी समितियों के रजिस्ट्रार को एक सहकारी बैंक को बंद करने के लिए या प्रबंधन की अपनी समिति के समनुदेशित करने के लिए और रजिस्ट्रार को निलंबित करने के लिए कोई कार्रवाई न करने के लिए आरबीआई को सशक्त बनाना है,भारतीय रिज़र्व बैंक से लिखित रूप में पूर्व स्वीकृति के बिना एक सहकारी बैंक के एकीकरण या पुनर्निर्माण, पात्र बैंकों के रूप में माना जाता है. वर्तमान में सभी सहकारी बैंक योजना द्वारा कवर किए गए हैं. लक्षद्वीप और दादरा और नगर हवेली के केंद्र शासित प्रदेशों में सहकारी बैंक नहीं हैं.

बीमा राशि

प्रारंभ में, डीआईसीजीसी अधिनियम की धारा 16 (1) के प्रावधानों के तहत, बीमा कवर 1,500 / - तक सीमित था, केवल प्रति जमाकर्ता (उनके) द्वारा जमा किए गए जमाराशियों के लिए (उन्हें) "एक ही अधिकार में और समान क्षमता में" बैंक की सभी शाखाओं में एक साथ. हालांकि, यह अधिनियम निगम को इस सीमा को केन्द्र सरकार की पूर्व अनुमोदन के साथ बढ़ाने के लिए भी सक्षम बनाता है. तदनुसार, बीमा सीमा को समय-समय पर बढ़ाया गया था:
  • 5,000/-  1 जनवरी 1968 से प्रभाव में 
  • 10,000/- 1 अप्रैल 1970से प्रभाव में
  • 20,000/- 1 जनवरी 1976से प्रभाव में
  • 30,000/- 1 जुलाई 1980से प्रभाव में
  • 1,00,000/- 1 मई 1993 के बाद .
डिपाजिट कवर के प्रकार 

डीआईसीजीसी सभी बैंक जमाओं को सुरक्षित करता है, जैसे कि बचत, फिक्स्ड, चालू और आवर्ती आदि, निम्न प्रकार के डिपाजिट को छोड़कर.
  • विदेशी सरकारों की जमाराशि;
  • केंद्र / राज्य सरकारों की जमाराशियां;
  • इंटर बैंक जमा
  • राज्य सहकारी बैंकों के साथ राज्य भूमि विकास बैंकों की जमाराशि;
  • भारत के बाहर से प्राप्त किसी भी राशि और जमा 
  • आरबीआई की पिछली अनुमोदन के साथ निगम द्वारा विशेष रूप से छूट दी गई राशि.
बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर्स

अध्यक्ष: श्री एन एस विश्वनाथन (उप-गवर्नर, भारतीय रिज़र्व बैंक, मुंबई)
जमा बीमा और क्रेडिट गारंटी निगम (डीआईसीजीसी) अधिनियम, 1 9 61 की धारा 6 (1) (ए) के तहत भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा मनोनीत.

You may also like to read:



CRACK SBI PO 2017


More than 250 Candidates were selected in SBI PO 2016 from Career Power Classroom Programs.

9 out of every 10 candidates selected in SBI PO last year opted for Adda247 Online Test Series.

No comments:

Post a Comment