Saturday, 1 April 2017

ख़ुद को दें एक नयी शुरुआत




जरुरी नहीं जैसा आप सोचे वैसा ही आपकी जिन्दगी में हो, जरुरी नहीं कि सब कुछ सकारात्मक हो, कभी-कभी निराशा भी आपके हाथ लगती है, पर यह हम पर निर्भर करता है कि हम उस समय को किस तरह हैंडल करते हैं, उस पर कैसे अपनी प्रतिक्रिया देते हैं. या तो हम निराश होकर हाथ पर हाथ रख कर बैठ सकते हैं या अपने उस हार की उत्तेजना को अपने दिल में चुनौती की तरह स्वीकार करते हुए, नए प्रयास के लिए खुद को तैयार कर सकते हैं.


यह मत सोचिये कि मै .5 से या 5 अंक से पास नहीं हुआ, क्या यह सच में असफलता है ? नहीं, बिलकुल नहीं, हो सकता है यह मेरी उड़ान में रुकावट हो, पर यह मुझे उड़ने से रोक नहीं सकता, “यह तो एक नयी शुरुआत की शुरुआत है”. असफलता हर किसी की जिंदगी में आती है पर यह इस पर निर्भर करता है कि आप उससे हार मान कर बैठ जाते हो या फिर से उठ कर लड़ने के लिए तैयार हो जाते हो. जीवन में कभी भी असफल हुए बिना सफलता नहीं मिलती, मेरे दोस्तों वो सफलता ही क्या जो बिना असफल हुए मिल जाए, इसके लिए खुद को मेहनत की आग में जलाना पड़ता है.


 “सपने वो नहीं होते जो हम सोते हुए देखते हैं, सपने वो हैं जो हमे सोने न दें”

आपने अक्सर देखा होगा कि एक चीटी भी कभी हार नहीं मानती, वह तब तक नहीं रूकती जब तक वह अपने लक्ष्य तक पहुँच न जाएँ, दोस्तों हमारे सामने चीटी ही उदाहरण प्रस्तुत करती है, वह चढ़ते हुए जब भी गिरती है वह फिर से उठती है,वह  फिर गिरती है, वह फिर उठती जाती है और तब तक प्रयास करती रहती है जब तक वह अपने लक्ष्य को हासिल न कर ले.


                 “निरंतर प्रयास ही सफलता की कुंजी है”   

अब यह समय फिर से उठने का है, फिर से लड़ने का है, और अपने सपनों को हासिल करने का है, आपके पास खोने के लिए कुछ नहीं है, पर मेरे दोस्तों पाने के लिए पूरी दुनिया आपके सामने है. 

आपकी जिंदगी यहाँ समाप्त नहीं होती बल्कि यह तो शुरुआत है, जितना बुरा होना था हो चुका, अब कुछ हो सकता है तो वह सिर्फ अच्छा ही होगा. आगे आपके जीवन में नया सूर्य अपनी बाहें फैलाये आपका इंतज़ार कर रहा है, आप किसका इंतज़ार कर रहे हैं, उठो और फिर से चलना शुरू करो, और तब तक चलते रहो जब तक असफलता आपसे हार न मान जाये.  


“Make up your mind that no matter what comes your way, no matter how difficult, no matter how unfair, you will do more than simply survive. You will thrive in spite of it.”

No comments:

Post a Comment